इंसानों की तरह कुत्तों को भी चपेट में ले रहा एड्स, इलाज न मिलने पर 3 दिन में हो सकती है मौत

कुत्तों में भी फैल रहा एड्स
कुत्तों में भी फैल रहा एड्स

वैज्ञानिकों (Scientists) ने दावा किया है कि एड्स की खतरनाक बीमारी इंसानों के अलावा कुत्तों (Dogs) में भी फैल रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 1:58 PM IST
  • Share this:
हिसार. एड्स (AIDS) जैसी प्राणघातक बीमारी इंसान को प्रभावित करती आई है, लेकिन अब कुत्तों में भी यह फैल रहा है. तीन दिन तक इलाज न होने पर कुत्‍तों की मौत निश्चित है. हिसार के लाला लाजपत राय यूनिवर्सिटी के लुवास के जीव विज्ञान विभाग के वैज्ञानिकों के शोध में कुत्‍तों में भी एड्स होने की बात सामने आई है. हिसार के लाला लाजपत राय यूनिवर्सिटी के परजीवी विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. सुखदीप वोहरा और डॉ.अनिल नेहरा ने बताया कि लंबी रिसर्च के बाद पाया गया कि एड्स एर्लिचिया नामक परजीवी के कारण होता है. यह चीचड़ से खून में फैलता है.

शोधकर्ताओं ने बताया कि विश्व भर में कुत्तों की कुल संख्या 90 करोड़ है. भारत में इस समय कुत्तों की संख्या 195 लाख तथा हरियाणा में करीब 19 लाख कुत्ते हैं. वैज्ञानिकों के अनुसार, विदेशी नस्ल के कुत्तों में एड्स की बीमारी ज्यादा फैल रही है और अब भारत के कुत्‍ते भी इसकी चपेट में आने लगे हैं. यह बीमारी चिचड़ का रूप है जो खून में फैलती है.

समय पर इलाज ने मिलने पर मौत
ज्यादा गर्मी होने के कारण यह बीमारी कुत्तों में देखी गई है. दक्षिण अफ्रीका के कुत्‍तों में यह बीमारी ज्यादा पाई गई है और अब अमेरिका तथा भारत में लगातार फैल रही है. वैज्ञानिकों के अनुसार भारत में हर राज्य से एड्स की बीमारी की शिकायतें आ रही हैं.
कुत्तों में दिखाई देते हैं ये लक्षण


वैज्ञानिकों के अनुसार कुत्ते में बुखार आना, खाना पीना कम कर देना, आखों से कम दिखना, अनियमा हो जाना, पेट के नीचे सूजन आना, कुत्ते का वजन कम हो जाना, नाक से खून निकलना तथा अंडाश्य में सूजन आना कुत्तों की एड्स की बीमारी के मुख्य लक्षण है. इसके बचाव के लिए डिक्सीसाइक्लीन दवाई देनी चाहिए और जो कि 21 दिन देनी चाहिए. इस बीमारी के दौरान 21 दिन में दो तीन बार पशु चिकित्सीय जांच करवानी चाहिए. ऐसे में कुत्ते को बचाया जा  सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज