लाइव टीवी

गायों की मौत को लेकर लोगों में गुस्सा, दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग

Sandeep Saini | News18 Haryana
Updated: January 18, 2020, 8:37 AM IST
गायों की मौत को लेकर लोगों में गुस्सा, दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग
नगर निगम ने 11 दिसंबर से 11 जनवरी तक हिसार के गो अभ्यारण में लगभग 529 गायों के मरने का आंकड़ा दिया.

गो अभ्यारण (Cow sanctuary) को लोगों ने गो हत्यारण की संज्ञा देनी शुरू कर दी है. हिसार (Hisar) के गो अभ्यारण में हुई सैकड़ों गायों की मौत अपने आप में एक बहुत बड़ा सवाल बन गई है. लोगों ने इसकी उच्च स्तरीय जांच (Investigation) कर दोषियों (Guilty) के खिलाफ सख्त कार्रवाई किए जाने की मांग की है.

  • Share this:
हिसार. जिले के गो अभ्यारण (Cow sanctuary) को लोगों ने गो हत्यारण की संज्ञा देनी शुरू कर दी है. हिसार (Hisar) के गो अभ्यारण में हुई सैकड़ों गायों की मौत अपने आप में एक बहुत बड़ा सवाल बन गई है. लोगों ने इसकी उच्च स्तरीय जांच (Investigation) कर दोषियों (Guilty) के खिलाफ सख्त कार्रवाई किए जाने की मांग की है. वीरवार को भी गो अभ्यारण में एक बछड़ी मृत पाई गई. वहीं चार से पांच गाय बेहद गंभीर पाई गईं.

नहीं रुक रहीं मौतें

नगर निगम ने 11 दिसंबर से 11 जनवरी तक हिसार के गो अभ्यारण में लगभग 529 गायों के मरने का आंकड़ा दिया है, लेकिन ये संख्या इससे कहीं ज्यादा है. अधिकारियों के अनुसार दिसंबर में लगभग 2400 गाय अभ्यारण में मौजूद थीं, लेकिन वर्तमान में ये संख्या अभ्यारण में कार्यरत कर्मचारियों के अनुसार केवल 1100 के आसपास बताई जा रही हैं. गायों की मौत प्लास्टिक खाने से कम बल्कि ठंड एवं चारा न मिलने के कारण ज्यादा हुई हैं. इसे लेकर लेकर शहरवासियों में भारी रोष है.

सरकार खामोश!


गाय, गीता और गंगा की बात करने वाली बीजेपी की सरकार इस मुद्दे पर मौन नजर आ रही है. लोगों का कहना है कि इस गो अभ्यारण में करोड़ों का घोटाला हुआ है. सामाजिक संगठनों ने इसकी उच्च स्तरीय जांच की मांग करते हुए दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

गो अभ्यारण में गायों के लिए न चारा है और न दवाहिसार के गो अभ्यारण में शानदार शेड बनाए जा रहे हैं. आलीशान ऑफिस और ऑफिस के सामने सुंदर-सुंदर झूले लगाए गए हैं, जिसका गायों से कोई संबंध नहीं है. लोगों का आरोप है कि यहां का सारा पैसा ठेकेदारों द्वारा हजम करवा दिया गया है. गायों को मुख्य रूप से चारा एवं दवाई की आवश्यकता है, लेकिन हिसार के गो अभ्यारण में गाय बीमारी और भूख के कारण मर रही हैं.

प्लास्टिक से हुई गायों की मौत- कमिश्नर

नगर निगम के कमिश्नर जय कृष्ण आभीर ने इस मामले पर सफाई देते हुए कहा कि प्रशासन की तरफ से गो अभ्यारण में सभी प्रकार की व्यवस्थाएं पहले ही की जा चुकी थीं. लगातार हो रही गायों की मौत को लेकर उन्होंने कहा कि जितनी भी मृत गायों का पोस्टमार्टम किया गया है उनके पेट से प्लास्टिक निकला है. इसी वजह से गायों की मौत हुई है. निगम कमिश्नर ने साथ ही ये भी कहा कि मौसम में परिवर्तन, तनाव, सर्दी और जगह परिवर्तन के कारण भी गायों की मौत हुई.

ये भी पढ़ें - मेयर की टेढ़ी नजर, लापरवाह अधिकारियों व कर्मचारियों की तैयार की लिस्ट

ये भी पढ़ें - पानीपत जिले को आमिर खान के हाथों मिला स्वच्छता के मामले में नंबर वन का खिताब

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हिसार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 18, 2020, 8:37 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर