रमलू मर्डर केस: कार में महिला मित्र सहित दो लोगों के साथ बिलासपुर गया था राममेहर

नई जिंदगी जीने के लिए राममेहर ने कईयों की जिंदगी की खराब
नई जिंदगी जीने के लिए राममेहर ने कईयों की जिंदगी की खराब

Ramloo Murder Case: पुलिस राममेहर की दो महिला मित्रों को गिरफ्तार कर चुकी है जिनमें से एक 5 दिनों के रिमांड पर है जबकि दूसरी को जेल भेजा जा चुका है.

  • Share this:
हिसार: दुनिया के सामने अपनी मौत का ड्रामा रचने के लिए मासूम रमलू की हत्या (Murder) करने वाले राममेहर ने अपने साथ कई लोगों को फंसा दिया. पुलिस (Police) ने इस मामले में दो अन्य आरोपितों को भी गिरफ्तार किया है जिन्हें वह अपनी कार में बिलासपुर लेकर गया था. पुलिस ढाणी कुतुबपुर निवासी मां-बेटे नवीन उर्फ बंटू और उसकी मां को गिरफ्तार कर लिया है.

सात दिनों के पुलिस रिमां पर चल रहे राममेहर से पूछताछ कर पुलिस पूरे मामले में संलिप्त रहे लोगों की गिरफ्तारी करने में जुटी हैं. पुलिस जांच में सामने आया है कि राममेहर ने कार कुतुबपुर गांव में जिस व्यक्ति के घर खड़ी की थी. उसकी पत्नी मूल रूप से बिलासपुर से है. वारदात के बाद राममेहर इन्हीं के घर पहुंचा और यहां से एसएक्स-4 गाड़ी में दोनों को साथ लेकर बिलासपुर के लिए निकल पड़ा.

राममेहर ने बिलासपुर जाने के बाद अपने जघन्य अपराध के बारे में उन्हें बताया था और इस राज को अपने तक रखने की बात कही थी. मां-बेटे ने राममेहर की असलियत जानते हुए भी उसकी मदद की व बिलासपुर में रहने का इंतजाम किया. राममेहर ने होनों से वहां खेती के लिए जमीन ढूंढने के लिए कहा था. राधा कुछ समय पूर्व राममेहर की फैक्ट्री में काम करती थी और जबसे दोनों आपस में एक दूसरे को जानते थे.



पुलिस ने दोनों को षडयंत्र में शामिल होने के आरोपों में गिरफ्तार किया है. पुलिस राममेहर की दो महिला मित्रों को गिरफ्तार कर चुकी है जिनमें से एक 5 दिनों के रिमांड पर है जबकि दूसरी को जेल भेजा जा चुका है. पुलिस ने नवीन व उसकी मां को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया जहां से नवीन को 1 दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा गया है व कोर्ट ने उसक मां को जेल भेजने के आदेश दिए.
लाल बहादुर खोवाल निशुल्क लड़ेंगे केस
हिसार के एडवोकेट लाल बहादुर खोवाल के साथ गुरुवार को रमूल के परिवार ने डीसी से मुलाकात की. उन्होंने बताया कि वह रमूल के केस की कोर्ट में पैरवी करेंगे. उन्होंने कहा कि इस मामले में राममेहर को दोषी साबित करने में पुलिस द्वारा एकत्रित पारिस्थितजन्य साक्ष्यों अहम साबित होंगे. उन्होंने उपायुक्त से इस जघन्य मामले में एविडेंस एक्ट के तहत साक्ष्य एकत्रित करने की मांग की है. उन्होंने बताया कि इस मामले में उपायुक्त ने हांसी जिला पुलिस के एसपी से भी बातचीत की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज