Home /News /haryana /

आमरण अनशन पर बैठे रामनिवास फौजी के समर्थन में उमड़ी लोगों की भीड़

आमरण अनशन पर बैठे रामनिवास फौजी के समर्थन में उमड़ी लोगों की भीड़

समर्थन देने पहुंचे लोग

समर्थन देने पहुंचे लोग

बुधवार को अनशन के दूसरे दिन फौजी की सेहत में भी गिरावट दर्ज की गई. लेकिन प्रशासन की तरफ 48 घंटे से अनशन पर बैठे फौजी की कोई सुध नहीं ली गई है.

    हांसी को जिला बनाने की मांग को लेकर कड़ाके की ठंड में आमरण अनशन पर बैठे हांसी जिला बनाओ संघर्ष समिति के अध्यक्ष रामनिवास फौजी को शहरवासियों का समर्थन मिलना शुरु हो गया है. अनशन के तीसरे दिन बुधवार को शहर के स्कूलों और कॉलेजों के सैंकड़ों विद्यार्थी धरनास्थल पर समर्थन देने के लिये उमड़ पड़े.

    प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन से जुड़े स्कूल प्राचार्यों ने भी धरनास्थल पर पहुंचकर समर्थन देने का ऐलान किया. रामनिवास फौजी ने स्पष्ट कहा कि सरकार जब तक हांसी को पूर्ण जिला बनाने की मांग से कम वह किसी बात पर सरकार के आगे झुकने वाले नहीं है.

    PHOTOS: सिंगर परमीश वर्मा को इस गैंगस्टर ने मारी थी गोली, बैसाखियों के सहारे पहुंचा कोर्ट

    बता दें कि हांसी को पूर्ण राजस्व जिला बनाने की मांग को लेकर रामनिवास फौजी मंगलवार को आमरण अनशन पर बैठ गये थे. बुधवार को अनशन के दूसरे दिन फौजी की सेहत में भी गिरावट दर्ज की गई. लेकिन प्रशासन की तरफ 48 घंटे से अनशन पर बैठे फौजी की कोई सुध नहीं ली गई है.

    हालांकि जिला पुलिस की सीआईडी विंग इस पूरे मामले पर पैनी नजर लगाये हुए है और सरकार के पास पल-पल की अपडेट भेजी जा रही है. बुधवार को राजकीय कॉलेज के प्रशान रवि गुर्जर, स्कूल एसोसिशन से जुड़े मा. रामअवतार सिंह व बलराज सहित कई सामाजिक संस्थाओं से जुड़े लोग समर्थन देने के लिये आए.

    9वीं कक्षा की छात्रा ने स्कूल में निगला जहरीला पदार्थ, हालत गंभीर

    शहीद भगत सिंह स्कूल के प्राचार्य रामअवतार ने कहा कि हर रोज पांच स्कूलों से विद्यार्थी अनशन स्थल पर आकर प्रार्थना सभा करेंगे. अनशन के दूसरे दिन ही शहरवासियों की तरफ से मिल रहे समर्थन से साफ है कि आने वाले समय में ये मांग एक बड़े आन्दोलन का रूप धारण करेगी.

    Tags: Army, Hisar news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर