समय आने पर जनता के हित में अपनी गर्दन भी कटा सकता हूं: अरविंद शर्मा

अरविंद शर्मा ने कहा कि जनहित में वह अपनी गर्दन भी कटा सकते हैं. अपने राजनीतिक जीवन में कैसे संघर्ष किया और कैसे जनता को उनके हित के लिए अपना जीवन समर्पित किया ये जनता खुद ही जान जाएगी.

Pradeep Dhankhar | News18 Haryana
Updated: May 6, 2019, 3:38 PM IST
समय आने पर जनता के हित में अपनी गर्दन भी कटा सकता हूं: अरविंद शर्मा
समय आने पर जनता के हित में अपनी गर्दन भी कटा सकता हूं: अरविंद शर्मा
Pradeep Dhankhar
Pradeep Dhankhar | News18 Haryana
Updated: May 6, 2019, 3:38 PM IST
हरियाणा के झज्जर में बीजेपी प्रत्याशी अरविन्द शर्मा ने कहा कि प्रजातंत्र मेें लठ, गोली व बोली से बड़ी ताकत वोट की होती है. इसलिए पार्टी या नेता कोई भी हो, उसे जनहितों से कभी खिलवाड़ नहीं करना चाहिए. क्योंकि जब जनता के अधिकारों का हनन होता है तो फिर जनता अपनी वोट की ताकत से ही उस नेता को आईना दिखाती है.

झज्जर के मोहल्ला छावनी, दिवानगेट, सीताराम गेट समेत अन्य कई स्थानों पर हुई चुनावी सभाओं में अरविन्द शर्मा ने कहा कि उनका राजनीतिक जीवन समाज हित, देशहित के लिए समर्पित रहा है. विपक्षी नेता अपने स्वार्थों के लिए उन पर आरोप भी लगाते हैं, लेकिन उनका इतिहास उठाकर देख लिया जाए तो यह बात खुदबखुद समझ में आ जाएगी. उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन में कैसे संघर्ष किया और कैसे जनता को उनके हित के लिए अपना जीवन समर्पित किया.



अरविंद शर्मा ने कहा कि जनहित में वह अपनी गर्दन भी कटा सकते हैं. वहीं छावनी मोहल्ले में कहा कि रोहतक पर तीन बार राज करने वाले बड़े घरों के लोग हैं, लेकिन वह तो बस एक सेवक हैं और सेवक बनकर ही जनता की सेवा करना चाहते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि वह अपने उम्मीदवार को कतई कमजोर न समझे. उनका उम्मीदवार शेर की तरह मजबूत है. समय पर जनता के हित में अपनी गर्दन भी कटा सकता है.

अरविंद शर्मा ने कहा कि चुनाव प्रचार में उन्हें थोड़ा समय मिलने की बात कहते हुए यह भी कहा कि कोई भी भाई यह न समझे कि वह उनसे नहीं मिलें. अगर अब समय नहीं मिला तो 12 मई को चुनाव संपन्न होते ही वह सभी के दरवाजे पर पहुंचेंगे. उन्होंने लोगों से पीएम की 10 मई को रोहतक में होने वाली रैली का भी न्योता दिया. उन्होंने कहा कि राष्ट्र और देशहित में नरेंद्र मोदी एक देशव्यापी यज्ञ कर रहे हैं. इस यज्ञ में अपनी आहुति देने का हम सभी का फर्ज है.

ये भी पढ़ें:- लोकसभा चुनाव: खजुराहो में मतदान का किया बहिष्कार तो महिला पर भड़के अधिकारी

ये भी पढ़ें:- हुड्डा आते थे तो भ्रष्टाचार और चौटाला आते थे तो गुंडागर्दी बढ़ती थी: अशोक अरोड़ा

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...