भूटान में हुई कराटे चैंपिनशिप में हरियाणा के खिलाड़ियों ने जीते 12 गोल्ड

खेल प्रेमियों ने विजेता खिलाड़ियों और कोच को खुली गाड़ी में बैठाकर पूरे शहर में घुमाया. इसके साथ ही खिलाड़ियों का फूल मालाओं और नोटों की मालाओं से जोरदार स्वागत भी किया गया.

Pradeep Dhankhar | News18 Haryana
Updated: June 14, 2018, 4:10 PM IST
भूटान में हुई कराटे चैंपिनशिप में हरियाणा के खिलाड़ियों ने जीते 12 गोल्ड
खिलाड़ियों का झज्जर पहुंचने पर हुआ जोरदार स्वागत
Pradeep Dhankhar | News18 Haryana
Updated: June 14, 2018, 4:10 PM IST
भूटान में आयोजित हुई चौथी इंडिया इंटरनेशनल कराटे चैंपियनशिप में हरियाणा के खिलाड़ियों ने सबसे ज्यादा पदक जीतकर देश और प्रदेश का मान बढ़ाया है।. हरियाणा के खिलाड़ियों की बदौलत ही इस प्रतियोगिता में भारत पहले स्थान पर रहा. विजेता खिलाड़ियों का बहादुरगढ़ पहुंचने पर जोरदार स्वागत किया गया.

खेल प्रेमियों ने विजेता खिलाड़ियों और कोच को खुली गाड़ी में बैठाकर पूरे शहर में घुमाया. इसके साथ ही खिलाड़ियों का फूल मालाओं और नोटों की मालाओं से जोरदार स्वागत भी किया गया. कराटे इंडिया कोच रजनीश चौधरी ने बताया कि भूटान में चौथी इंडिया इंटरनेशनल कराटे चैंपियनशिप आयोजित की गई थी. जिसमें भारत और भूटान के साथ-साथ नेपाल के खिलाड़ियों ने भी भाग लिया था.

उन्होंने बताया कि देश भर से 120 खिलाड़ियों ने इस चैंपियनशिप में हिस्सा लिया. इस प्रतियोगिता में सबसे ज्यादा पदक हरियाणा के खिलाड़ियों ने जीते और हरियाणा के खिलाड़ियों की जीत की बदौलत ही प्रतियोगिता में भारत ने पहला स्थान हासिल किया. रजनीश चौधरी ने बताया कि हरियाणा के खिलाड़ियों ने 12 स्वर्ण, दो रजत और दो कांस्य पदक हासिल किए.

यह सभी खिलाड़ी बहादुरगढ़ से कराटे प्लेनेट अकैडमी में प्रेक्टिस करते हैं. रजनीश चौधरी ने बताया कि विजेता खिलाड़ियों में कई खिलाड़ी पहले भी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में पदक हासिल कर चुके हैं और इन सभी खिलाड़ियों का अगला लक्ष्य वर्ष 2020 में होने ओलंपिक खेलों के लिए जी जान से मेहनत कर रहे हैं.

बता दें कि वर्ष 2020 मैं आयोजित होने वाले ओलंपिक खेलों में एक बार फिर से कराटे खेलों को स्थान मिला है और प्रदेश के खिलाड़ी भारी संख्या में ओलंपिक खेलों की तैयारी में अभी से जुटे हुए हैं. भूटान से जीतकर लौटे खिलाड़ी भी अपनी जीत से बेहद प्रसन्न है. उन्होंने अपनी जीत का श्रेय अपने कोच रजनीश चौधरी और अपने अपने माता पिता को दिया है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर