Kisan Aandolan: टिकरी बॉर्डर पर 2 किसानों की मौत, एक की हादसे तो दूसरे की हार्ट अटैक से गई जान

बड़े आंदोलन की तैयारी में हैं किसान. (Pic- AP)

बड़े आंदोलन की तैयारी में हैं किसान. (Pic- AP)

Kisan Aandolan: अब तक 25 से ज्यादा किसानों की टिकरी बॉर्डर पर मौत हो चुकी है. मृतक का शव पोस्टमार्टम के लिए नागरिक हॉस्पिटल में भिजवाया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2021, 5:44 PM IST
  • Share this:

झज्जर. किसान आंदोलन में शामिल दो और किसानों की टीकरी बॉर्डर पर मौत हो गई. जुलाना खेड़ा के रहने वाले 75 वर्षीय बुजुर्ग किसान दिलीप सिंह को किसी अज्ञात वाहन ने टक्कर दे मारी, जिसमें उसकी रोहतक पीजीआई में मौत (Death) हो गई, जबकि पंजाब के संगरूर जिले के गांव रामपुर छैना के रहने वाले 29 वर्षीय किसान संदीप की हृदयघात (Heart Attack) से मौत होने की आशंका जताई जा रही है. टिकरी बॉर्डर पर अबतक 25 से ज्यादा किसानों की मौत हो चुकी है.

परिजनों के आने के बाद ही पुलिस शव का पोस्टमार्टम करवाने की कार्रवाई अमल में लाएगी. कैथल जिले के गांव जुलाना खेड़ा के रहने वाले बुजुर्ग किसान दिलीप सिंह दो माह से बहादुरगढ़ बाइपास पर किसानों के जत्थे के साथ डटा हुआ था. सोमवार अलसुबह जब वह लघुशंका के लिए उठा और सड़क पार करने लगा तो उसी दौरान अज्ञात वाहन की टक्कर से चोटिल हो गया. मौके पर मौजूद किसानों ने उसे तुरंत इलाज के लिए रोहतक स्थित पीजीआई लेकर गए, जहां उसने मंगलवार को दम तोड़ दिया.

Youtube Video

पंजाब का रहने वाला था किसान संदीप
वहीं 29 साल का संदीप रामपुर छैना गांव का था रहने वाला बताया जा रहा है. सेक्टर 9 मोड़ और बहादुरगढ बस स्टैंड के बीच उसकी ट्रैक्टर ट्रॉली खड़ी थी. मृतक किसान सन्दीप आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभा रहा था. उसकी मौत का कारण फ़िलहाल ह्रदय गति रुकना बताया जा रहा लेकिन असली कारणों का पता तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही चल सकेगा. बता दें कि अब तक 25 से ज्यादा किसानों की टिकरी बॉर्डर पर मौत हो चुकी है. मृतक का शव पोस्टमार्टम के लिए नागरिक हॉस्पिटल में भिजवाया गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज