Home /News /haryana /

ट्रैप शूटिंग में रजत पदक विजेता 19 साल के लक्ष्य श्योराण का जोरदार स्वागत

ट्रैप शूटिंग में रजत पदक विजेता 19 साल के लक्ष्य श्योराण का जोरदार स्वागत

लक्ष्य श्योराण

लक्ष्य श्योराण

लक्ष्य ने अपनी जीत का श्रेय अपने माता-पिता और कोच को दिया है. लक्ष्य का कहना है कि वह बचपन से ही शूटर बनना चाहता था और पढ़ाई में उसका मन नहीं लगता था.

    एशियन गेम्स 2018 में ट्रैप शूटिंग के रजत पदक विजेता खिलाड़ी लक्ष्य श्योराण का बहादुरगढ़ पहुंचने पर जोरदार स्वागत किया गया. पदक विजेता खिलाड़ी का लोगों ने फूल और नोटों की मालाओं से ढोल की थाप पर स्वागत किया. लक्ष्य श्योराण मूल रूप से बेरी के ढराना गांव के रहने वाले हैं और वे बहादुरगढ़ के आदर्श नगर में अपने चाचा के घर आए हुए थे.

    लक्ष्य ने एशियन गेम 2018 में ट्रैप शूटिंग इवेंट में रजत पदक हासिल किया है. लक्ष्य ने बताया कि वह फरीदाबाद में रहकर ट्रैप्ड शूटिंग की बारीकियां सीख रहा है और 4 साल पहले उसने शूटिंग खेलना शुरू किया था. 4 महीने की प्रैक्टिस के बाद ही वह नेशनल चैंपियन बन गया था. वह अब तक नेशनल और इंटरनेशनल लेवल पर 25 मेडल हासिल कर चुका है.

    VIDEO: सोनीपत के अंकुर मित्‍तल ने वर्ल्‍ड शूटिंग चैम्पियनशिप में जीता गोल्‍ड

    लक्ष्य ने अपनी जीत का श्रेय अपने माता-पिता और कोच को दिया है. लक्ष्य का कहना है कि वह बचपन से ही शूटर बनना चाहता था और पढ़ाई में उसका मन नहीं लगता था. तो उसके माता-पिता ने उसका साथ दिया और वह शूटर बन गया. लक्ष्य का अगला टारगेट ओलंपिक खेलों में पदक जीतकर देश का नाम रोशन करना है जिसके लिए उसने अभी से कड़ी मेहनत शुरु कर दी है.

    इस मौके पर लक्ष्य की मां प्रमिला ने बताया कि लक्ष्य कब बचपन से ही शूटिंग में जाने का मन था. तो उन्होंने उस का साथ दिया और आज उसने ना सिर्फ अपनी मां का बल्कि भारत माता का नाम भी रोशन किया है. उन्हें अपने बेटे पर नाज है. लक्ष्य की माता का कहना है कि अगर हम अपने बच्चों की रुचियों के अनुसार उन्हें सीखने, खेलने और पढ़ने में मदद करें, तो अवश्य ही बच्चे अपने मां बाप का नाम आगे चलकर रोशन करेंगे.

    Tags: Asian Games 2018, Jhajjar news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर