हरियाणा: किसान आंदोलन में शामिल वकील ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखी ये बात...

सरकार से बातचीत करेंगे किसान. (pic- AP)

Kisan Aandolan: मृतक वकील के पास से सुसाइड नोट के तौर पर प्रधानमंत्री मोदी को लिखा एक पत्र बरामद हुआ है. पुलिस ने जांच करने की बात कही है.

  • Share this:
    झज्जर. कृषि बिलों के खिलाफ किसानों के आंदोलन का सोमवार को 33वां दिन है. किसानों (Farmers) ने बातचीत फिर से शुरू करने का फैसला लेते हुए शनिवार को सरकार (Government) को चिट्ठी लिखी थी. किसानों ने मंगलवार 11 बजे मीटिंग करने का वक्त दिया था. उन्होंने 4 शर्तें भी रखीं. किसानों की चिट्ठी पर सरकार 28 दिसंबर को जवाब दे सकती है. इस बीच रविवार सुबह हरियाणा के बहादुरगढ़ में आंदोलनकारी किसानों के समर्थन में आए पंजाब के एक वकील ने जहरीला पदार्थ निगल लिया. पीजीआई रोहतक में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.

    मृतक वकील के पास से सुसाइड नोट के तौर पर प्रधानमंत्री मोदी को लिखा एक पत्र बरामद हुआ है. इसमें उन्होंने तीनों कृषि कानूनों को किसान विरोधी बताया है और कहा है कि किसान, मजदूर और आम आदमी की रोटी मत छीनिए.

    बता दें कि टीकरी बार्डर से करीब 7 किलोमीटर दूर पकौड़ा चौक के पास किसान आंदोलन में शामिल वकील अमरजीत सिंह ने जहरीला पदार्थ निगल लिया. हालत बिगड़ती देख साथी उन्हें तुरंत बहादुरगढ़ के नागरिक अस्पताल लेकर गए. प्राथमिक दवा देने के बाद डॉक्टरों ने उन्हें पीजीआई रोहतक रेफर कर दिया. जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया.

    पंजाब के फाजिल्का जिले के जलालाबाद बार एसोसिएशन के सदस्य वकील अमरजीत सिंह अपने साथी आंदोलनकारियों के साथ नयागांव चौक के निकट धरनारत थे. नयागांव चौक के पास जहरीला पदार्थ निगलने के कारण उक्त आंदोलकारी की मौत हो गई. पुलिस ने आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी है. सुसाइड नोट जैसा जो कागज मिला है, उसकी जांच की जाएगी.

    किसानों ने बताया कि अमरजीत पिछले 15 दिनों से बहादुरगढ़ के पकौड़ा चौक के पास किसान आंदोलन में शामिल थे. रविवार सुबह एक किसान ने परिजनों को फोन पर सूचित किया कि अमरजीत ने कोई जहरीला पदार्थ खा लिया है. अमरजीत को बहादुरगढ़ के सिविल अस्पताल ले जाया गया, वहां से गंभीर हालत में रोहतक स्थित पीजीआईएमएस रेफर कर दिया गया, जहां उन्‍होंने दम तोड़ दिया.