झज्जर: निर्माणाधीन वेयरहाउस में घुसा तेंदुआ, 2 घंटे के रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद रोहतक जू भेजा

तेंदुओं को वन विभाग के टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद पकड़ लिया.

तेंदुओं को वन विभाग के टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद पकड़ लिया.

Leopard in Jhajjar: करीब 2 घंटे तक चले रेस्क्यू आपरेशन (Rescue Operation) के बाद सफलतापूर्वक तेंदुए को पिंजरे में कैद किया गया और फिर रोहतक चिड़ियाघर भेज दिया गया.

  • Share this:

झज्जर. हरियाणा के झज्जर जिले (Jhajjar District) में एक निर्माणाधीन वेयरहाउस में तेंदुआ घुस गया. वन्य प्राणी विभाग की टीम ने रेस्क्यू ऑपरेशन (Rescue Operation) चला कर उसे पकड़ लिया. दरअसल पाहसौर गांव के रिलायंस एसईजेड (Reliance SEZ Zone) क्षेत्र के निर्माणाधीन वेयर हाउस (Under Construction Ware House) में तेंदुए (Leopard) के घुसने की खबर मिली थी. जिसके बाद वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची और काफी मशक्कत के बाद ट्रंक्यूलाइजर गन की मदद से तेंदुए को बेहोश किया गया. उसके बाद जाल की मदद से पकड़ कर उसे पिंजरे में डाला गया.

तेंदुए को सुरक्षित तरीके से बचा कर रोहतक के चिड़ियाघर (Zoo) में छोड़ दिया गया है. रेस्क्यू ऑपरेशन वन्य प्राणी विभाग की टीम के साथ वेटनरी डॉक्टर को भी शामिल किया गया था. वन्य प्राणी विभाग की टीम ने बताया कि आमतौर पर किसी क्षेत्र में तेंदुआ मिलने की सूचना पर अफरातफरी का माहौल बन जाता है. लोग भी जानवर को मारने के लिए दौड़ पड़ते हैं. लेकिन अच्छी बात यह रही कि इस तेंदुए के द्वारा किसी पशु पर अभी तक हमले की सूचना नहीं मिली है.

4-5 साल का है तेंदुआ, भेजा रोहतक जू

वहीं दूसरी और तेंदुए को भी सुरक्षित तरीके से लोगों से बचाते हुए उसे रोहतक के चिड़ियाघर में छोड़ दिया गया है. तेंदुआ करीब चार-पांच वर्ष का है और काफी तंदुरुस्त है. वन्य प्राणी विभाग का कहना है कि आम तौर पर यह तेंदुए गुरुग्राम क्षेत्र की पहाड़ियों के अलावा अरावली की पहाड़ियों (Aravali Hills )में देखे जाते रहे. लेकिन इस एरिया में कभी तेंदुआ नहीं देखा गया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज