लाइव टीवी

LIC कर्मचारियों ने की सांकेतिक हड़ताल, इस बात का कर रहे विरोध
Jhajjar News in Hindi

Pradeep Dhankhar | News18 Haryana
Updated: February 4, 2020, 1:45 PM IST
LIC कर्मचारियों ने की सांकेतिक हड़ताल, इस बात का कर रहे विरोध
LIC कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ की नारेबाजी

कर्मचारियों का कहना है एलआईसी सरकार का सबसे अच्छा उपक्रम है जिस पर देश की जनता को पूरा भरोसा है, लेकिन सरकार एलआईसी के निजीकरण की तरफ बढ़ रही है.

  • Share this:
झज्जर. ‘एलआईसी जीवन के साथ भी और जीवन के बाद भी’, इस टैग लाइन के साथ एलआईसी (LIC) देश की आवाज, विश्वास और पहचान बन चुकी है. लेकिन अब एलआईसी की ये पहचान संकट में पड़ गई है. एलआईसी का आईपीओ (IPO) लाने की घोषणा के साथ ही इसका विरोध भी तेज हो गया है. बहादुरगढ़ में एलआईसी ब्रांच के सभी कर्मचारियों ने सरकार (Government) के निर्णय के विरोध में सांकेतिक हड़ताल की है.

लंच टाइम से ठीक पहले सवा बारह बजे से सवा एक बजे तक सभी कर्मचारियों ने काम बंद कर दिया. एलआईसी के सभी कर्मचारी काम बंद कर दफ्तर के बाहर इकठ्ठा हो गए और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की. कर्मचारियों का कहना है एलआईसी सरकार का सबसे अच्छा उपक्रम है जिस पर देश की जनता को पूरा भरोसा है, लेकिन सरकार एलआईसी के निजीकरण की तरफ बढ़ रही है. इसी मकसद से एलआईसी का आईपीओ लाने जा रही है.

नहीं लाया जाए एलआईसी का आईपीओ

कर्मचारियों का कहना है एलआईसी का आईपीओ लाने से सरकार को रोका जाएगा और सभी कर्मचारी इसके खिलाफ एकजुट होकर संघर्ष करेंगे ताकि सरकार को अपना फैसला वापस लेना पड़े. बहादुरगढ़ ब्रांच से हर साल करीब 43 करोड़ का नया प्रीमियम एलआईसी जनरेट करती है. इस साल भी करीब साढ़े 22 हजार नई पॉलिसी करने और करीब साढ़े 43 करोड़ का प्रीमियम लक्ष्य हासिल करना है.

कर्मचारियों ने कहा एलाईसी को बेचना गलत

बहादुरगढ़ ब्रांच में ढाई लाख से ज्यादा पॉलिसी फिलहाल चल रही है. एलआईसी कर्मचारियों का कहना है कि एलआईसी सरकार को हर साल पैसा देती आई है लेकिन इस तरह एलआईसी को बेचना गलत है, जो न तो पॉलिसी धारकों के हित में है और ना ही देश के हित में.

ये भी पढ़ें:- पत्नी के चरित्र पर शक करता था पति, कुल्हाड़ी से कई वार कर की हत्याये भी पढ़ें:- AAP नेता पर लगे सरकारी जमीन को अवैध रूप से किराए पर देने का आरोप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए झज्‍जर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 1:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर