Home /News /haryana /

Vaishno Devi Stampede: बेटे की आंखों के सामने मां की दर्दनाक मौत, सास और बच्‍चे हुए बेसहारा

Vaishno Devi Stampede: बेटे की आंखों के सामने मां की दर्दनाक मौत, सास और बच्‍चे हुए बेसहारा

Vaishno Devi Stampede: 38 साल की ममता अपनी सास और बच्‍चों की इकलौती सहारा थी.

Vaishno Devi Stampede: 38 साल की ममता अपनी सास और बच्‍चों की इकलौती सहारा थी.

Vaishno Devi Stampede:जम्‍मू-कश्‍मीर के कटरा स्थित माता वैष्‍णो देवी के धाम में शुक्रवार और शनिवार की दरमियानी रात को भगदड़ में 12 लोगों की मौत हो गयी थी, तो काफी लोग घायल हुए थे. वहीं, जान गंवाने वालों में हरियाणा के झज्जर की 38 साल की महिला भी शामिल है, जो कि अपने बेटे के साथ मां के दर्शन के लिए गई थी. पड़ोसियों के मुताबिक, मां और बेटे रात ढाई बजे वापस आ रहे थे, तभी भगदड़ मची और आदित्य अपनी मां से बिछड़ गया. इस बीच ममता भगदड़ का शिकार हो गई और उसकी मौके पर ही मौत हो गई.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu Kashmir) के कटरा स्थित माता वैष्‍णो देवी के धाम (Vaishno Devi Stampede) में शुक्रवार और शनिवार की दरमियानी रात भगदड़ मचने से 12 लोगों की मौत हो गयी थी, तो 20 से ज्‍यादा लोग घायल हुए थे. यह हादसा देर रात करीब ढाई बजे हुआ था. वहीं, इस हादसे में हरियाणा के झज्जर की महिला ने भी जान गंवाई है. मृतका की पहचान झज्जर जिले के बेरी इलाके की रहने वाली 38 साल की ममता के रूप में हुई है. वह तीन दिन पहले अपने 19 साल के बेटे आदित्य के साथ माता वैष्णो देवी के दर्शन करने के लिए गई थी.

ममता और उसका बेटा नव वर्ष की पूर्व संख्या पर माता के दर्शन करने थे. वहीं, ममता के पड़ोसियों ने बताया कि दोनों दर्शन कर रात ढाई बजे के बाद वापस आ रहे थे, तभी भगदड़ मची और आदित्य अपनी मां से बिछड़ गया. इस बीच ममता भगदड़ का शिकार हो गई और उसकी मौके पर ही मौत हो गई. जबकि आदित्य सकुशल है.

आज बेरी आ सकता है ममता का शव
पड़ोसियों के मुताबिक, बेरी से ममता के परिवार के लोग कटरा पहुंच चुके हैं और आज ममता का शव यहां पहुंच सकता है. इसके साथ उन्‍होंने बताया कि ममता के पति सुरेन्द्र की भी 3 साल पहले बीमारी के चलते मौत हो चुकी है. परिवार में उसकी सास, बेटा आदित्य और एक 13 साल की बेटी बची है. ममता की मौत के बाद पूरा परिवार गहरे सदमें में है. ममता के घर पर फिलहाल कोई मौजूद नहीं है और घर पर ताला लटका हुआ है.

सास, बेटी और बेटा का सहारा थी ममता
ममता के पड़ोसियों ने यह भी बताया कि वह पति की मौत के बाद खुद घर संभाल रही है. वह, सास की देखभाल के साथ अपने बेटे और बेटी का सहारा थी. इस वक्‍त दोनों बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं. वहीं, इस दर्दनाक हादसे की सूचना के बाद आस पड़ोस के साथ साथ पूरे बेरी कस्बे के लोग भी शोक में हैं.

Tags: Haryana news, Jammu kashmir, Mata Vaishno Devi

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर