लाइव टीवी

भारी भरकम बिल देख छूटा ग्रामीणों का पसीना, बिजली निगम कार्यालय पहुंच जताया विरोध
Jhajjar News in Hindi

Pradeep Dhankhar | News18 Haryana
Updated: December 23, 2019, 4:43 PM IST
भारी भरकम बिल देख छूटा ग्रामीणों का पसीना, बिजली निगम कार्यालय पहुंच जताया विरोध
बिजली बिल देख उड़े ग्रामीणों के होश

आरोप यह भी है कि ग्रामीणों (Villagers) को उनके बिजली बिल घर पर पहुंचाने की बजाय एक जगह पर ही फेंक दिए जाते है. जिसकी वजह से उन्हें समय पर बिजली बिल (Electricity Bill) भी नहीं मिल पाता.

  • Share this:
झज्जर. सर्दी के मौसम होने के बावजूद भी झज्जर के गांव बिरधाना के दर्जनों घरों के ग्रामीणों के माथे का पसीना अपने घर का भारी-भरकम बिजली बिल (Electricity Bill) देख कर नहीं सूख रहा है. ग्रामीण बिजली मीटर की रीडिंग (Electricity meter reading) लेने वाले कर्मचारी की कार्यशैली को लेकर सवाल उठा रहे है और उन्होंने आरोप लगाया है कि बिजली मीटर रीडऱ मौके पर न जाकर अपने घर में ही बैठकर उनके घरों की बिजली रीडिंग को अपने रिकार्ड में भर देता है, जिसका परिणाम यह है कि जो बिजली बिल कुछ रूपयों का आता था वह अब हजारों और लाखों रूपयों तक पहुंच गया है.

आरोप यह भी है कि ग्रामीणों को उनके बिजली बिल घर पर पहुंचाने की बजाय एक जगह पर ही फेंक दिए जाते है. जिसकी वजह से उन्हें समय पर बिजली बिल भी नहीं मिल पाता. अपनी इन सभी समस्याओं को लेकर सोमवार को गांव बिरधाना के काफी संख्या में ग्रामीण जिनमें महिलाएं भी काफी अधिक संख्या में शामिल थी. यहां झज्जर बिजली निगम कार्यालय पहुंची और अपनी समस्या से अधिकारियों को अवगत कराया.

विभाग ने दिया आश्वासन

हांलाकि अधिकारियों ने ग्रामीणों को उनका बिजली बिल ठीक करने का आश्वासन भी दिया है. लेकिन ग्रामीणों का कहना था कि उनके साथ इस बार नहीं बल्कि हर बार ऐसा होता है. बिजली बिल को बिल में ही ठीक किया जाता है जबकि रिकॉर्ड को दुरुस्त नहीं किया जाता, जिसका परिणाम यह है कि हर बार उन्हें इस प्रकार की समस्या से जूझना पड़ता है.

ये भी पढ़ें- CAA पर अनिल विज बोले- पाकिस्तान और हिंदुस्तान का विपक्ष आपस में मिले हैं

ये भी पढ़े- Indian Army के कर्नल राजेश सड़क हादसे में बुरी तरह से घायल, ड्राइवर की मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए झज्‍जर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 23, 2019, 4:43 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर