Home /News /haryana /

हरियाणा: सब जूनियर वर्ग के पहलवान ने सीनियर पहलवानों को चित्त कर जीता गोल्ड

हरियाणा: सब जूनियर वर्ग के पहलवान ने सीनियर पहलवानों को चित्त कर जीता गोल्ड

हरियाणा के पहलवान ने रचा इतिहास

हरियाणा के पहलवान ने रचा इतिहास

Haryana Wrestlers: झज्जर जिला हमेशा से कुश्ती की धरा के नाम से प्रसिद्ध रहा है. यहां हर गांव में पहलवान मिल जाते हैं और जिस तरह से अब पहलवान मेहनत कर रहे हैं तो आने वाले दिनों में अर्न्तराष्ट्रीय पटल पर भी यहां के पहलवानों का दबदबा रहने वाला है.

अधिक पढ़ें ...

झज्जर. सब जूनियर वर्ग के पहलवान (wrestler) ने सीनियर पहलवानों को हराकर गोल्ड मेडल (Gold Medal) हासिल किया है. मांडौठी गांव के पहलवान सुमित ने पहली ओपन रैंकिंग सीनियर नेशनल कुश्ती प्रतियोगिता में ये स्वर्ण पदक हासिल किया है. 60 किलो भार वर्ग का पहलवान सुमित हिन्द केसरी सोनू पहलवान अखाड़े में अर्जुन अवार्डी कोच धर्मेन्द्र का शिष्य हैं और उन्हीं से कुश्ती के गुर सीख रहा है. सुमित ने 2021 में सब जूनियर वर्ल्ड चैम्पियनशिप में कांस्य पदक भी हासिल कर रखा है. सुमित कमोबेश पहला पहलवान है जो सीधा सब जूनियर से छलांग मारकर सीनियर कुश्ती का चैम्पियन बना है.

पहली ओपन रैंकिंग सीनियर नेशनल कुश्ती प्रतियोगिता का आयोजन भारतीय कुश्ती संघ  की तरफ से किया गया था. 10 से 12 जनवरी को उत्तर प्रदेश के गोंडा में प्रतियोगिता सम्मपन्न हुई. हिन्द केसरी सोनू पहलवान अखाड़े के तीन पहलवानों ने प्रतियोगिता में एक गोल्ड और दो सिल्वर मेडल हासिल किए हैं. सुमित ने 60 किलो भार वर्ग में गोल्ड तो साहिल ने 130 किलो में रजत और छुड़ानी गांव के पहलवान योगेश ने 82 किलो में रजत पदक हासिल किया है.

130 किलो भार वर्ग का पहलवान साहिल मांडौठी गांव का रहने वाला है और भारतीय सेना में हवलदार के पद पर कार्यरत भी है. साहिल अर्न्तराष्ट्रीय स्तर पर सब जूनियर कैडट प्रतियोगिता में देश के लिए भी खेल चुका है. वहीं योगेश रजत पदक से पहले सब जूनियर में कांस्य पदक हासिल कर चुका है. हिन्द केसरी पहलवान सोनू अखाड़े के अर्न्तराष्ट्रीय स्तर का पहलवान राहुल चोट के कारण मेडल से चूक गया. हालांकि चोट लगने से पहले 4 पहलवानों को राहुल हरा चुका था. राहुल 2020 सीनियर नेशनल कुश्ती का चैम्पियन भी रहा है.

अर्जुन अवार्डी पहलवान और कोच धर्मेन्द्र का कहना है कि भारतीय कुश्ती संघ ने पहली बार रैंकिंग प्रतियोगिता करवाई है. इस प्रतियोगिता में नेशनल कुश्ती प्रतियोगिता से ज्यादा पहलवानों ने भाग लिया. मेडल जीतने के लिए एक एक पहलवान को 6 से 7 कुश्तियां जीतनी पड़ी है. उन्होंने कहा कि अखाड़े के पहलवानों ने जीत से इलाके का नाम रोशन किया है और अब ये पहलवान एशिया और कॉमनवेल्थ चैम्पियनशिप में देश के लिए खेलते हुए मेडल जीतने का काम भी करेंगे.

Tags: Haryana news, Sports

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर