लाइव टीवी

जींद: रिश्वत लेने के दोषी फॉरेस्ट गार्ड को कोर्ट ने सुनाई 5 साल की सजा, 5 हजार रुपये जुर्माना

Vijender Kumar | News18 Haryana
Updated: December 13, 2019, 12:08 PM IST
जींद: रिश्वत लेने के दोषी फॉरेस्ट गार्ड को कोर्ट ने सुनाई 5 साल की सजा, 5 हजार रुपये जुर्माना
कोर्ट ने सुनाई 5 साल की सजा(File Photo)

फॉरेस्ट गार्ड (Forest Guard) ने 2016 में अलेवा गांव में होटल मालिक रामनिवास से केस दर्ज नहीं करने की एवज में रिश्वत (Bribe) मांगी थी. होटल के आगे आंधी तूफान के कारण पेड़ गिरा था तो केस दर्ज करने की धमकी दी थी.

  • Share this:
जींद. जिला अदालत (District Court) ने रिश्वत (Bribe) लेने के आरोपी फॉरेस्ट गार्ड (Forest Guard) को 5 साल की सजा सुनाई है. कोर्ट ने दोषी पर पाचं हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है. एडिशनल सेशन जज गुरविंदर कौर की अदालत ने ये फैसला सुनाया है. अगर दोषी जुर्माना नहीं भरता तो उसे एक साल अतिरिक्त सजा काटनी होगी.

फॉरेस्ट गार्ड ने 2016 में अलेवा गांव में होटल मालिक रामनिवास से केस दर्ज नहीं करने की एवज में रिश्वत मांगी थी. होटल के आगे आंधी तूफान के कारण पेड़ गिरा था तो केस दर्ज करने की धमकी दी थी. फॉरेस्ट गार्ड ने मामले को रफा दफा करने के लिए 4 हजार रुपये मांगे थे.

फॉरेस्ट गार्ड को रंगेहाथों किया था गिरफ्तार

रामनिवास की इस शिकायत पर स्टेट विजिलेंस ब्यूरो ने ड्यूटी मजिस्ट्रेट को साथ लेकर रामनिवास को 4 हजार रुपये के नोट देकर उसे फोरेस्ट गार्ड अश्वनी के पास भेजा था. जैसे ही फोरेस्ट गार्ड अश्वनी ने रामनिवास से 4 हजार रुपये के नोट रिश्वत में लिए, विजिलेंस ब्यूरो की टीम ने उसे रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया था.

भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत दर्ज किया था मामला

फोरेस्ट गार्ड अश्वनी के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत मामला दर्ज हुआ था. तभी से यह मामला अदालत में विचाराधीन था. गुरुवार को एडीशनल सेशन जज गुरविंद्र कौर की कोर्ट ने फोरेस्ट गार्ड अश्वनी को इस मामले में 5 साल कैद और जुर्माने की सजा सुनाई.

ये भी पढ़ें- शर्मनाक: कम नंबर आए तो प्रिंसिपल ने बच्‍ची का मुंह काला कर स्‍कूल में घुमायापानीपत में पिता के रिवॉल्वर से 12वीं के छात्र ने खुद को मारी गोली, मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जींद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 11:40 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर