लाइव टीवी

RTI से खुलासा: कृषि विभाग ने 4 महीने में लड्डू और समोसों पर खर्च कर डाले 40 लाख
Jind-Haryana News in Hindi

Vijender Kumar | News18 Haryana
Updated: March 5, 2020, 1:24 PM IST
RTI से खुलासा: कृषि विभाग ने 4 महीने में लड्डू और समोसों पर खर्च कर डाले 40 लाख
लड्डू और समोसों पर खर्च कर डाले 40 लाख

किसान (Farmer) को एक समोसा, 2 लड्डू और 2 गुलाब जामुन खिलाये गए, जिन पर प्रति किसान 57 रुपये खर्चा किया गया. किसान को जो खाना खिलाया गया बिल (Bill) में उसे 120 प्रति किसान दिखाया गया है.

  • Share this:
जींद. हरियाणा के जींद (Jind) जिले में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. किसानों को पराली न जलाने को लेकर जागरुक करने पर जिले भर में 40 लाख रुपये का खर्च कर दिया गया. लेकिन जिला दुनिया का अब भी 17वां सबसे प्रदूषित शहर है. कृषि विभाग (Agriculture Department) ने RTI में जो जानकारी दी है उसके अनुसार विभाग ने किसानों (Farmers) को इन पैसे से खाना और मिठाई खिलाई है. विभाग के अनुसार उन्होंने गांव-गांव जाकर किसानों को जागरुक किया गया है.  विभाग ने हर गांव में 2 बार मीटिंग ली, टैंट लगवाया, किसानों को इकट्ठा किया. किसान को एक समोसा, 2 लड्डू और 2 गुलाब जामुन खिलाये गए, जिन पर प्रति किसान 57 रुपये खर्चा किया गया. किसान को जो खाना खिलाया गया बिल में उसे 120 प्रति किसान दिखाया गया है.

RTI एक्टिविस्ट के अनुसार विभाग ने ये खर्च किया ही नहीं, फ़र्ज़ी बिल बनाये गए

एक्टिविस्ट ने पूरे मामले की शिकायत गृह मंत्री को की है. उन्होंने बताया है कि एक ही दुकान के नाम से दो दो बिल काटे गए हैं जबकि दोनों में से कोई दुकान उपलब्ध नहीं है. इतना ही नहीं एक कार्यक्रम जुलाना में आयोजित किया गया था लेकिन उसके लिए टेंट जींद से 40 किलोमीटर की दूरी से लाया गया, जो सवाल खड़े करता है.



RTI एक्टिविस्ट




कृषि विभागों ने आरोपों को बताया निराधार

आरटीआई एक्टिविस्ट ने कहा कि एक छोटे से ढाबे में 4 कुर्सियां रखी गई है और उसका खाने के बिल 40,000 से ज्यादा दिखाया गया है. उन्होंने कहा कि विभाग ने कैम्प के दिखाए है उनसे पता चलता है कि किसी भी गांव में टेंट नहीं लगाया गया है जबकि इसका खर्चा 5 लाख से ज्यादा दिखाया गया है. जबकि कृषि विभाग का कहना है की ये सब आरोप निराधार है. हम किसानों के लिए आगे भी इस तरह के अच्छे आइडिया लाते रहेंगे.

सबसे प्रदूषित शहरों में 17वें स्थान पर पहुंचा जींद

कृषि भाग ने ये खर्चा जुलाई 2018 से लेकर अक्टूबर 2018 तक किया. उस समय प्रदूषित शहरों में जींद विश्व भर में 20 वे स्थान पर था. एक तरफ विभाग प्रदूषण कम करने के लिए किसानों को गुलाब जामुन खिला रहा था तो दूसरी और जींद प्रदूषित शहरों में छलांग लगाते हुए इस साल 17वें स्थान पर पहुंच गया है.

ये भी पढ़ें- चंडीगढ़ में कोरोना वायरस के दो संदिग्ध मिले, हाल ही में इंडोनेशिया और सिंगापुर से लौटे थे दोनों

 

हरियाणा: विधायकों को चीन से आए टैबलेट दिए जाने पर विपक्ष में खौफ, विज बोले- डरने की जरूरत नहीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जींद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 5, 2020, 1:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading