Home /News /haryana /

akhada web series writer said pm narendra modi should intervene to reintroduce wrestling in the commonwealth games hrrm

अखाड़ा वेब सीरीज के लेखक बोले- कुश्ती को कॉमनवेल्थ खेलों से बाहर करना गांवों की आत्मा पर चोट

संजय सैनी ने कहा कुश्ती को बाहर करने से भारत के 33 प्रतिशत मेडल कम आएंगे, कुश्ती का रहा है अहम रोल.

संजय सैनी ने कहा कुश्ती को बाहर करने से भारत के 33 प्रतिशत मेडल कम आएंगे, कुश्ती का रहा है अहम रोल.

Commonwealth Games: अभी हाल ही में एशियाई खेलों में भारत के 17 मेडल आये है जिसमे से अकेले 13 हरियाणा से हैं. 2018 में हुए कॉमनवेल्थ खेलों में भारत के 66 मेडल आये थे जिसमें से 12 कुश्ती के मेडल आये थे. इसलिए हर हाल में कुश्ती शामिल होनी चाहिए.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कॉमनवेल्थ खेलो में कुश्ती को दोबारा से शामिल कराने के लिए करे हस्तक्षेप: संजय सैनी
कहा- ये भारत को नीचा दिखाने की साजिश है.

जींद. पहलवानों की जिंदगी पर बनाई गई अखाड़ा वेब सीरीज के लेखक संजय सैनी ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कॉमनवेल्थ खेलो से कुश्ती को बाहर करने मामले में हस्तेक्षप करने की मांग की है. इसके लिए सीटीएम को एक मांग पत्र भी सौंपा है. उन्होंने कहा 2026 में ऑस्ट्रेलिया के विक्टोरिया राज्य में होने है कॉमनवेल्थ खेल जिनकी प्रारंभिक सूची में कुश्ती और तीरंदाजी जैसे खेल शामिल नहीं है. हरियाणा के गांवों को सहेजने में कुश्ती की अहम भूमिका है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दखल देना चाहिए क्योंकि देश की छवि खराब हो रही.

राष्ट्रमंडल खेलों से कुश्ती खेल को बाहर करने पर भारत को नीचा दिखाने की कोशिश की जा रही है. कुश्ती का प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा है और हमारे खिलाड़ी मेडल लाते रहे है. कुश्ती खिलाड़ियों ने भारत का हमेशा मान बढ़ाया है. भारत गांवों में बसता है और कुश्ती के साथ गांव का गहरा नाता है. कुश्ती में खासकर हरियाणा के खिलाड़ी इससे बहुत प्रभावित होंगे.

गांव में कोई भी बच्चा शुरुआती दिनों में खेलों की और बढ़ता है और उसमें कुश्ती सबसे प्राथमिक लिस्ट में होती है. खेलों के प्रति रुझान नशे की राह से भी दूर रखता है. बचपन से ही मेडल लाने का सपना पाले हुए खिलाड़ियों का मनोबल गिर जाएगा. इसलिए मोदी जी से निवेदन है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसकी मजबूत पैरवी करे और कुश्ती को दोबारा शामिल कराए.

उन्होंने कहा हमने पहलवानों पर बनी अखाड़ा वेब सीरीज बनाई है. इसलिए एक पहलवान का क्या दर्द होता है ये हमने नजदीक से समझा है. एक पहलवान को तैयार करने में एक परिवार अपना सब कुछ दांव पर लगा देता है. इसलिए इसे एक गंभीर समस्या मानते हुए तुंरत हस्तक्षेप करना चाहिए.

अगर कुश्ती राष्ट्रमंडल खेलों से बाहर होता है तो भारत के 33 प्रतिशत मेडल कम हो जाएंगे. कुश्ती के काफी मेडल हमेशा से आते रहे है और शानदार प्रदर्शन रहा है. अभी हाल ही में एशियाई खेलों में भारत के 17 मेडल आये है जिसमे से अकेले 13 हरियाणा से हैं. 2018 में हुए कॉमनवेल्थ खेलों में भारत के 66 मेडल आये थे जिसमें से 12 कुश्ती के मेडल आये थे. इसलिए हर हाल में कुश्ती शामिल होनी चाहिए.

Tags: Haryana news, Wrestling

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर