लाइव टीवी

हरियाणाः बिजली विभाग ने भेजा 2 महीने का बिल तो किसान को लगा '440 वोल्ट का झटका'
Jind-Haryana News in Hindi

Vijender Kumar | News18 Haryana
Updated: February 4, 2020, 11:47 AM IST
हरियाणाः बिजली विभाग ने भेजा 2 महीने का बिल तो किसान को लगा '440 वोल्ट का झटका'
किसान को भेजा एक लाख का बिजली बिल

किसान (Farmer) ने कहा कि जब वह लगातार बिजली का बिल (Electricity Bill) भर रहा है, तो इतना बिल कैसे आ गया. उसका बिजली का लोड भी काफी कम है.

  • Share this:
जींद. हरियाणा के जींद जिले में बिजली विभाग (Electricity Department) के कारनामे से एक किसान (Farmer) परेशान है. जिले में जुलाना कस्बे के किसान को विभाग ने एक लाख से ज्यादा का बिजली बिल थमा दिया है. बिल को ठीक करवाने के लिए अब यह किसान विभाग के चक्कर काट-काट कर तंग आ चुका है. गांव शादीपुर के किसान सुनेहरा ने बताया कि वह लगातार बिजली के बिल भर रहा है. उसका औसतन बिल दो माह में एक हजार रुपये से नीचे ही आता है.

किसान ने बताया कि दिसंबर में भी उसने पूरा बिल भरा था. लेकिन इस महीने बिजली विभाग ने उसे एक लाख 9 सौ 44 रुपये बिल थमा दिया. भारी-भरकम बिल को देखकर किसान के पसीने छूट गए. किसान ने बताया बिजली विभाग के कर्मचारियों की वजह से उसे परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

किसान ने की बिल ठीक करने की मांग
किसान ने कहा कि जब वह लगातार बिजली का बिल भर रहा है, तो इतना बिल कैसे आ गया. उसका बिजली का लोड भी काफी कम है. दिसंबर में उसने 600 रुपये बिजली के बिल के भरे थे. लेकिन इस बार विभाग ने मीटर रीडिंग सही ढंग से नहीं की, जिसकी वजह से दो माह में 13150 यूनिट का बिल 100944 रुपये का आ गया है. किसान ने बिजली विभाग से बिल ठीक करने की मांग की है.

विभाग के एसडीओ ने मानी गलती
1 लाख रुपये से ज्यादा के बिल के बारे में जब बिजली विभाग के एसडीओ से बात की गई तो उन्होंने कहा कि किसान का बिल उसके घर का है. गलत मीटर रीडिंग की वजह से यह बिल आया हुआ है. किसान का बिल जल्द ही ठीक कर दिया जाएगा और मीटर रीडिंग करने वाले कर्मचारियों को हिदायत दे दी गई है कि आगे से लोगों की मीटर की रीडिंग सही लेकर आएं.

ये भी पढ़ें -AAP नेता पर लगे सरकारी जमीन को अवैध रूप से किराए पर देकर पैसे वसूलने के आरोप

सैलून में चल रहा था देह व्यापार, आपत्तिजनक हालत में मिली 4 युवतियां और दो युवक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जींद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 11:00 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर