VIDEO: हरियाणा में Lockdown की वजह से बर्बाद हुई फूलों खेती, किसानों ने खड़ी फसल पर चलाए ट्रैक्टर

फूलों की खड़ी फसल पर ट्रैक्टर चलाता किसान

Jind News: फूलों की खेती करने वाले किसानों ने बताया कि उन्हें प्रति एकड़ 80,000 रुपए का नुकसान हुआ है. अब को दूसरे काम ढूंढने को मजबूर हो गए है.

  • Share this:
जींद. हरियाणा में पिछले साल की तरह इस बार भी लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से फूलों की खेती (Flower farming) बर्बाद हो गई है. किसानों ने अपनी खड़ी फसल में ट्रैक्टर चला दिए है. इस साल भी फूल की खेत करने वाले किसानों को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ है. किसानों को हुए इस नुकसान से उनके चेहरे मायूस हैं. किसानों का कहना है कि वो वैकल्पिक खेती भी कर रहे है लेकिन दो साल से लगातार नुकसान झेल रहे हैं.

किसानों को इस बात का दुख है कि सरकार का कोई नुमाइंदा हालात जानने नहीं आया कि किसानो के दिल पर क्या गुजर रही है. बता दें कि हरियाणा के जींद जिले में पिछले लॉकडाउन में भी किसानों ने खड़ी फसल पर ट्रैक्टर चलाया था. लॉकडाउन के कारण, शादियां, मंदिर, राजनीतिक कार्यक्रम बंद रहे, जिसके कारण फूलों की डिमांड नहीं आई.


दूसरे काम ढूंढने को मजबूर हुए किसान

ठेके पर जमीन लेकर खेती करने वाले किसानों पर इस बार भी बड़ी मार पड़ी हैं. किसानों ने बताया कि उन्हें प्रति एकड़ 80,000 रुपए का नुकसान हुआ है. अब को दूसरे काम ढूंढने को मजबूर हो गए है. किसानों का कहना है कि जीन्द, रोहतक, कुरुक्षेत्र, पानीपत, झज्जर जिले के किसान मुख्यतौर पर फूलों की खेती करते जिनको करीब 200 करोड़ रूपये का नुकसान हुआ है.

जीन्द में 100 एकड़ फसल बर्बाद 

किसानो ने कहा दूसरी फसलों के खराब होने पर मुवावजा वितरण प्रणाली की तरह फूलों की खेती करने वाले किसानो को भी 60,000 प्रति एकड़ मुवावजा दिया जाए. उन्होंने कहा कि 100 रुपए किलो बिकने वाले फूल आज 6 रुपए में बिक रहे हैं. इसलिए उन्होंने अपनी फसल पर ट्रैक्टर चला दिया. बता दें कि हरियाणा के इन जिलों में किसान गेंदा, ग्लाइडर, रजनीगंधा, जाफरी, गुलाब आदि फूलों की खेती करते हैं. किसानो का कहना है कि अकेले जीन्द में 100 एकड़ फसल बर्बाद हुई है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.