लाइव टीवी

सरकार पराली उठाने का करे इंतजाम, जलाने पर जुर्माना किए जाने का करेंगे विरोध : भारतीय किसान यूनियन

Vijender Kumar | News18 Haryana
Updated: November 1, 2019, 3:06 PM IST
सरकार पराली उठाने का करे इंतजाम, जलाने पर जुर्माना किए जाने का करेंगे विरोध : भारतीय किसान यूनियन
कृषि विभाग का कहना है कि गांव-गांव जाकर किसानों को पराली न जलाने को लेकर जागरूक किया जा रहा है.

भारतीय किसान यूनियन के जिला प्रधान ने कहा कि सरकार खेतों से पराली को हटाने का कोई इंतजाम करे. अगर सरकार कोई इंतजाम नहीं करती है तो पराली जलाने पर जुर्माना किए जाने का विरोध किया जाएगा.

  • Share this:
जींद. हरियाणा के जींद (Jind) में भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union) ने सरकार को खुली चेतावनी दी है कि या तो खेतों में पड़ी पराली (Straw) को उठाने का इंतजाम किया जाए, नहीं तो किसान (Farmers) यूं ही पराली जलाएंगे. सरकार को यह चेतावनी यूनियन के जिला प्रधान महेंन्द्र घिमाना (Mahendra Ghiman) ने दी है. घिमाना का कहना है कि किसानों के पास पराली जलाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है. पराली उठवाने से बहुत ज्यादा पैसे खर्च होते हैं. इसलिए पराली जलाना किसान की मजबूरी है. उन्होंने कहा कि सरकार खेतों से पराली को हटाने का कोई इंतजाम करे. अगर सरकार कोई इंतजाम नहीं करती है तो पराली जलाने पर जुर्माना किए जाने का विरोध किया जाएगा.

पराली नहीं जलाने को लेकर किसानों को किया जा रहा जागरूक

किसानों का कहना है कि इसे लेकर सरकार कोई कदम उठाए तो उन्हें पराली जलाने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी. सरकार कोई इंतजाम नहीं कर पा रही है इसलिए किसानों को पराली जलानी पड़ रही है. उधर कृषि विभाग का कहना है कि गांव-गांव जाकर किसानों को पराली न जलाने को लेकर जागरूक किया जा रहा है. इसके बाद भी जो किसन पराली जला रहे हैं उन्हें जुर्माना किया जा रहा है. इस साल पराली जलाने के 199 केस सामने आए हैं. जुर्माना न देने पर सजा का भी प्रावधान है.

जींद में उप-सिविल सर्जन डॉ. राजेश भोला ने कहा कि नाक, मुंह और गले से संबंधित रोगियों की संख्या में करीब 20 प्रतिशत का इजाफा हुआ है.


दूषित हवा से बचने के लिए मास्क लगाएं

जींद में उप-सिविल सर्जन डॉ. राजेश भोला ने कहा कि कुछ दिनों से पराली जलाए जाने के कारण प्रदूषण का लेवल काफी बढ़ गया है. ऐसे में स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं सामने आने लगी हैं. अस्थमा और दमा के रोगियों की कलीफ बढ़ गई है. नाक, मुंह और गले से संबंधित रोगियों की संख्या में करीब 20 प्रतिशत का
इजाफा हुआ है. स्वस्थ व्यक्ति को भी दूषित हवा के कारण तकलीफ होने लगी है. ऐसे में अस्थमा और दमा के मरीजों को सलाह दी जाती है कि वे घरों से बाहर न निकलें. ऐसे मरीज जब भी घरों से बाहर निकलें तो मास्क जरूर लगा लें. डॉक्टर ने मास्क पहनने की सलाह स्वस्थ लोगों को भी दी.
Loading...

ये भी पढ़ें - पानीपत में तेज रफ्तार कार कंटेनर से टकराई, पति-पत्नी की मौत

ये भी पढ़ें - गुरुग्राम : अवैध होर्डिंग व पोस्टर को लेकर नगर निगम हुआ सख्त, होगी कार्रवाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जींद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 3:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...