लाइव टीवी

डॉ. रमेश पांचाल ने जींद को देश में दिलाई नई पहचान, IDA करेगी सम्मानित
Jind-Haryana News in Hindi

Vijender Kumar | News18 Haryana
Updated: January 23, 2020, 10:34 AM IST
डॉ. रमेश पांचाल ने जींद को देश में दिलाई नई पहचान, IDA करेगी सम्मानित
इंडियन डेंटल एसोसिएशन 24 को करेंगी डॉ. पांचाल को केरल में सम्मानित

डॉक्टर पांचाल के इस कीर्तीमान के लिए उन्हें शुक्रवार को इंडियन डेंटल एसोसिएशन (Indian Dental Association) द्वारा सम्मानित (Honored) किया जाएग. ये सम्मान समारोह केरल में आयोजित किया जा रहा है.

  • Share this:
जींद. जिले के सामन्य अस्पताल (Hospital) में कार्यरत डॉक्टर रमेश पांचाल (Doctor Ramesh Panchal) 10 साल के दौरान एक लाख से ज्यादा मरीजों का इलाज कर देशभर में एक बड़ा रिकॉर्ड बनाया है. डॉक्टर पांचाल के इस कीर्तीमान के लिए उन्हें शुक्रवार को इंडियन डेंटल एसोसिएशन (Indian Dental Association) द्वारा सम्मानित किया जाएग. ये सम्मान समारोह केरल में आयोजित किया जा रहा है.

डॉक्टर रमेश पांचाल ने कहा हमने सरकारी सेवा के साथ साथ जो डेंटल हेल्थ के झुग्गी झोपड़ियों और रिमोट एरिया में जाकर लोगो को दांतो की सफाई के लिए अवेयर किया है उसको सरहाना मिली है. उन्होंने कहा की मेरी पृष्ठभूमि गांव की है, इसलिए एक जूनून है की ग्रामीण स्तर तक लोगों को जागरूक किया जाए ताकि मुंह की बिमारी से बचा जा सके.

डॉक्टर पांचाल ने कहा की मैंने 10 साल के दौरान एक लाख से ज्यादा मरीजों को देखा है जिससे पता चला है कि ग्रामीण स्तर पर लोग मुंह की सफाई को लेकर जागरूक नहीं है जिसके कारण पायरिया और अन्य बीमारियां हो जाती हैं. उन्होंने कहा की मेरा पूरा जीवन लोगों के स्वास्थ्य और उन्हें जागरूक करने के लिए समाज हित में काम करता रहेगा.

महिला का इलाज करते डॉक्टर पांचाल


बच्चा होने के उपरांत ब्रश नहीं करती महिलाएं

उन्होंने कहा की बच्चा होने के उपरान्त महिलायें भी ब्रश नहीं करती है, जिसके कारण सबसे बड़ी परेशानी उनको होती है. बच्चा होने के तुरंत बाद भी ब्रश किया जा सकता है, लेकिन पुरानी मान्यताओं के अनुरूप महिलायें ब्रश नहीं करती जोकि एक भ्रम है. विज्ञान ये कहता है कि अगर ब्रश नहीं किया तो दांत खराब होने का ज्यादा खतरा है. इसलिए दांतो को अगर बचा के रखना है तो महिलाओं को ब्रश करना नहीं छोड़ना चाहिए.

महिलाओं को हुक्के की लत छुड़वाना अगला लक्ष्यडॉक्टर पांचाल ने कहा की आज गांव स्तर पर एक बड़ी समस्या सामने आ रही है की महिलायें भी हुक्के का प्रयोग करने लगी है. हुक्के का प्रयोग बीमारियों को बढ़ावा देता है. इसलिए अब उनका टारगेट महिलाओ में इस लत को छुड़वाना भी रहेगा.

एक लाख से ज्यादा ओपीडी देखने का रिकॉर्ड

बता दें कि डॉक्टर रमेश पांचाल की सरकारी सेवा 23 वर्ष की हो चुकी है. इस दौरान इन्होंने स्लम बस्ती, रिमोट एरिया, महिलाओं, बच्चो पर खास काम किया है. एक अकेले डॉक्टर द्वारा एक लाख से ज्यादा ओपीडी देखना भी अपने आप में रिकॉर्ड है जो दूसरे डॉक्टर्स को प्रेरित करता है. डॉक्टर रमेश पांचाल गांव स्तर और खासकर महिलाओं में डेंटल हेल्थ को लेकर प्रयासरत है.

ये भी पढ़ें-अस्पताल पर आरोप: रात भर शव का इलाज करते रहे डॉक्टर, सुबह परिजनों को थमाया 53 हजार का बिल

यमुनानगर: हवालात का ताला खोलकर फरार हुए दो चोर, ASI समेत तीन पुलिसकर्मी सस्पेंड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जींद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 23, 2020, 10:34 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर