Assembly Banner 2021

Kisan Aandolan: जींद के किसानों ने PM मोदी को भेजी खून से लिखी चिट्ठी, कहा- वापस लो काला कानून

Jind News: जींद टोल प्लाजा पर आंदोलन कर रहे किसानों ने पीएम नरेंद्र मोदी को खून से चिट्ठी लिखकर कृषि कानून वापस लेने की मांग की है.

Jind News: जींद टोल प्लाजा पर आंदोलन कर रहे किसानों ने पीएम नरेंद्र मोदी को खून से चिट्ठी लिखकर कृषि कानून वापस लेने की मांग की है.

हरियाणा के जींद में 60 दिनों से ज्यादा अवधि से टोल प्लाजा पर डटे किसानों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कृषि कानून वापस लेने की मांग की. एमएसपी के लिए कानून बनाने की मांग के समर्थन में किसानों ने पीएम को खून से लिखा खत.

  • Share this:
जींद. कृषि कानूनों के खिलाफ कई महीनों से आंदोलन कर रहे किसान, सरकार का ध्यान खींचने के लिए हरसंभव उपाय कर रहे हैं. इसी क्रम में हरियाणा के जींद के किसानों ने अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खून से चिट्ठी लिखकर इन कानूनों को वापस लेने और एमएसपी लागू करने की मांग की है. जींद के टोल प्लाजा पर केंद्र सरकार के कानून के खिलाफ आंदोलन कर रहे सैकड़ों किसानों ने इंजेक्शन से खून निकालकर पीएम मोदी को चिट्ठी लिखी है. इसमें किसानों ने कहा है कि उन्हें ये काले कानून नहीं चाहिए, इसके बजाये सरकार एमएसपी पर स्थाई कानून बनाए.

जींद जिले के किसानों ने पीएम मोदी को खून से लिखी चिट्ठी में कहा है, 'आदरणीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी, हमें तीनों काले कानून नहीं चाहिए. इन तीनों काले कानूनों को वापिस लो और एमएसपी पर परमानेंट कानून बनाओ.' जींद टोल प्लाजा पर बैठे किसानों का कहना है कि वे 63 से ज्यादा दिनों से कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं. फिर भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है. इसलिए युवा किसानों ने प्रधानमंत्री को खून से चिट्ठी लिखने का फैसला किया है.

Youtube Video




किसानों का कहना है कि हम खून से पत्र लिखकर पीए मोदी को यह संदेश देना चाहते हैं कि जो किसान गांधीवादी तरीके से आंदोलन कर सकता है, वह भगत सिंह की तरह खून भी देना जानता है. महिला किसान सिक्कम, किसान नेता विजेंदर सिंधु आदि ने कहा कि केंद्र सरकार को किसानों के हक में उनकी बात सुननी चाहिए. आपको बता दें कि केंद्र सरकार के बनाए 3 कृषि कानूनों के खिलाफ हरियाणा, पंजाब, यूपी समेत देश के कई राज्यों के किसान पिछले कई महीनों से दिल्ली के बॉर्डरों पर आंदोलन कर रहे हैं. किसानों की मांग है कि ये कानून हर हाल में वापस होने चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज