लाइव टीवी

जींद में उपभोक्ताओं की तरफ 8 अरब से ज्यादा के बिजली बिल बकाया
Jind-Haryana News in Hindi

Vijender Kumar | News18 Haryana
Updated: December 18, 2019, 2:22 PM IST
जींद में उपभोक्ताओं की तरफ 8 अरब से ज्यादा के बिजली बिल बकाया
जींद में बिजली विभाग बिजली बिल को लेकर दे रही नोटिस (फाइल फोटो)

जींद (jind) जिले में उपभोक्ताओं (Consumers) की तरफ 8 अरब से ज्यादा के बिजली बिल (electricity bill) बकाया है. सरकारी विभागों (Government departments) की तरफ भी करीबन 16 करोड़ रुपये की राशि बकाया है.

  • Share this:
जींद. हरियाणा के जींद (jind) जिले में उपभोक्ताओं (Consumers) की तरफ 8 अरब से ज्यादा के बिजली बिल (electricity bill) बकाया है. सरकारी विभागों (Government departments) की तरफ भी करीबन 16 करोड़ रुपये की राशि बकाया है. अकेले पब्लिक हेल्थ (Public health) की तरफ ही 13 करोड़ रूपए की राशि बकाया है. सरकार विभिन्न योजनाओं के तहत बकाया बिलों को भरवाने की कोशिश कर रही है, लेकिन जींद जिले में ये सारी कोशिशें नाकाम होती दिखाई दे रही है.

विभागों में सबसे अधिक पब्लिक हेल्थ पर बकाया

दर्जनों बिजली बिल माफी योजनाओं को अमलीजामा पहनाने के बावजूद जींद सर्कल (Jind circle) की बकाया बिलों की डिफॉल्टिंग अमाउंट(Defaulting amount) कम होने का नाम नहीं ले रही है. बिजली निगम की ओर से मुख्यालय को भेजी गई रिपोर्ट के अनुसार जिले की डिफॉल्टिंग अमाउंट राशि 8 अरब 46 करोड़ पर पहुंच गई है. इसमें सबसे ज्यादा जींद सब अर्बन का 2 अरब 17 करोड़ से अधिक का बकाया है. दोनों बिजली निगमों की जिला वाइज डिफॉल्टिंग अमाउंट को देखे तो जींद जिला प्रदेश में पहले नंबर पर है.

डिफॉल्टिंग अमाउंट में सबसे आगे है जींद सब अर्बन

दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम जींद सर्कल के तहत तीन डिवीजन और 12 सब डिवीजन आती है. इन सभी सब डिवीजनों में 70 हजार 129 उपभोक्ताओं पर 8 अरब 46 करोड़ 52 लाख 6 हजार रुपए बकाया है, इसमें सरकारी विभाग भी शामिल हैं,  जिनके 673 उपभोक्ताओं पर 16 करोड़ 49 लाख 95 हजार रुपए बकाया है. डिफॉल्टिंग अमाउंट में सबसे अधिक हिस्सा जींद सब अर्बन सब डिवीजन है तो वहीं सबसे कम डिफॉल्टिंग अमाउंट जींद सिटी सब डिवीजन की ओर बकाया है.

रोजाना डिफाॅल्टरों के काटे जा रहे कनेक्शन

उपभोक्ताओं के हिसाब भी जींद सब अर्बन में सबसे अधिक 8173 उपभोक्ता तो सफीदों सिटी सब डिवीजन में सबसे 542 उपभोक्ता डिफॉल्टर है. सरकार की ओर से बकाया बिलों पर ब्याज माफी और बिजली अधिक समय देने जैसे कई योजनाएं ला चुकी है. बावजूद इसके डिफॉल्टिंग अमाउंट लगातार बढ़ रही है, ऐसा भी नहीं है यह बकाया बिल हाल-फिलहाल का है. कई उपभोक्ता तो ऐसे हैं जो लंबे समय से ही बिजली बिल नहीं भर रहे हैं. निगम बकाया बिजली बिलों को लेकर काफी गंभीर है और रोजाना डिफॉल्टरों की सूची बनाकर कनेक्शन काट रही है. सरकारी विभागों का भी बकाया बिजली बिल को लेकर नोटिस दिए जा रहे हैं.यह भी पढ़ें- हेवी ड्राइविंग लाइसेंस के लिए 8वीं पास की शैक्षणिक योग्यता हटी, 3 ट्रेनिंग स्कूलों को पत्र जारी

यह भी पढ़ें- खिलाड़ियों के भविष्य के लिए मैं कुछ भी कर सकता हूं : संदीप सिंह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जींद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 18, 2019, 2:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर