लाइव टीवी

10 वर्षों में इन्हें पीएचडी नहीं मिली डिग्री, राष्ट्रपति से आत्महत्या की अनुमति मांगी

News18 Haryana
Updated: June 29, 2019, 3:42 PM IST
10 वर्षों में इन्हें पीएचडी नहीं मिली डिग्री, राष्ट्रपति से आत्महत्या की अनुमति मांगी
प्रतीकात्मक फोटोः शोधार्थियों को पीएचडी की डिग्री नहीं मिलने से वे परेशान हैं

जींद के शोधार्थियों करीब 10 साल बीत जाने के बाद भी उन्हें डिग्री अवॉर्ड नहीं की गई है. ये छात्र राष्ट्रपति से आत्महत्या की अनुमति मांग रहे हैं.

  • Share this:
हरियाणा के पीएचडी कुछ शोधार्थी छात्रों ने जींद के डीसी डॉ. आदित्य दहिया को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नाम एक ज्ञापन सौंपा है. जींद जिले के रहने वाले ये छात्र आंध्र प्रदेश स्थित एक प्राइवेट यूनिवर्सिटी से पीएचडी कर रहे हैं. ज्ञापन के माध्यम से शोधार्थियों ने कहा कि उन्होंने 2008-09 में आंध्र प्रदेश की एक प्राइवेट यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया था, करीब 10 साल बीत जाने के बाद भी उन्हें डिग्री नहीं दी गई है. ये छात्र भारी अवसाद में है. इन छात्रों ने राष्ट्रपति से मांग की है कि उनकी डिग्री अगर जल्दी नहीं दिलवाई जाती है तो आत्महत्या करने की अनुमति दी जाए. ये छात्र जींद के एक पंचायत के प्रधान बबली के साथ डीसी कार्यालय पहुंचे थे. इस अवसर पर ये शोधार्थी यशवीर दहिया, बबिता लाठर, ममता शर्मा, ईशा बंसल, पृथ्वीराज, सुनील मान, संदीप गोयत, जयभगवान दलाल, कुलविंद्र सिंह, राजेश, संजय खर्ब और कृष्ण मौजूद रहे.

ये छात्र अब 42-44 साल के हो चुके हैंआंध्र प्रदेश

उन्होंने कहा कि जब शोधार्थियों ने 2008.09 में दाखिला लिया था तो उस समय उनकी उम्र 32 से 34 साल थी लेकिन अब 42-44 साल से ज्यादा की हो गई है. उन्होंने कहा कि अब उनकी उम्र सरकारी या गैर सरकारी क्षेत्र में नौकरी की निकल गई है.

डीसी दहिया ने कहा- वे यूनिवर्सिटी के अधिकारियों से बात करेंगे

जींद के डीसी डॉ. आदित्य दहिया ने कहा कि शोधार्थियों की मांगों को प्राथमिकता से सुलझाया जाएगा. इसके लिए यूनिवर्सिटी के अधिकारियों से बातचीत की जाएगी और जल्द ही शोधार्थियों को डिग्री अवॉर्ड करवाई जाएगी. अगर इसमें सेंटर संचालक की कमी मिली तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ेंः  बिजली मंत्री बनने के दिन से ‘गायब’ हैं नवजोत सिंह सिद्धू

पत्नी और 2 बेटियों के टुकड़े-टुकड़े करने वाला गिरफ्तार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 29, 2019, 1:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...