अपना शहर चुनें

States

हरियाणा: जींद में फेरों से पहले बिन दुल्‍हन लौटी दो बारातें, नहीं मानते तो जाना पड़ता जेल

महिला संरक्षण एवं बाल विवाह निषेध के अधिकारियों ने दो शादियां रूकवा दी.
महिला संरक्षण एवं बाल विवाह निषेध के अधिकारियों ने दो शादियां रूकवा दी.

बाल विवाह (Child Marriage) के ज्यादातर मामलों में ऐसा देखने में आया है कि या तो लड़की और लड़का के परिवार के लोग अनपढ़ (Illiterate) होते है और लड़का-लड़की भी कम पढ़े-लिखे होते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 23, 2020, 11:07 PM IST
  • Share this:
जींद:  हरियाणा में बाल विवाह (Child Marriage) के मामले नहीं रुक रहे है. ताजा मामला हरियाणा (Haryana) के जींद (Jind) का है जहां बीती रात महिला संरक्षण एवं बाल विवाह निषेध के अधिकारियों ने दो शादियां रूकवा दी. एक लड़की की उम्र साढ़े 17 साल थी और दूसरी की 16 साल थी. वहीं दोनों लकड़ों की उम्र 24 वर्ष बताई जा रही है.

बता दें कि हरियाणा सरकार भले बेटी बचाओं अभियान पर कार्य कर रही है. लेकिन कुछ लोग अभी भी बाल विवाह कर रहे है. वहीं बीती जींद और एक गांव सूदकैन दो नाबालिग लड़कियों की शादी कराई जा रहा थी. इस बात की सूचना महिला संरक्षण एवं बाल विवाह निषेध के अधिकारियों की मिली. इसके बाद अधिकारी मौके पर पहुंचे और शादी को रूकवा दी. वहीं एक लड़की की उम्र साढ़े सत्रह साल थी और दूसरी की 16 साल थी. वहीं लकड़ों की उम्र 24 वर्ष बताई जा रही है. लड़का लड़की के बीच 8 साल का अंतर था.

दोनों पक्षों ने दिया ये आश्वासन



वहीं विभाग के अधिकारियों का कहना है कि समाज मे अब भी अनपढ़ता, कमजोर आर्थिक स्थिति बाल विवाह का कारण बन रही है. फिलहाल दोनों पक्षो ने लड़कियों की की उम्र 18 साल होने पर शादी करने का लिखित में भरोसा दिया है. वहीं अधिकारियों ने बताया कि पिछले कुछ दिनों में 8 शादियां रुकवा चुका है.


दो महीने में रुकवाए 8 बाल विवाह

सहायक बाल विवाह निषेध अधिकारी रवि लोहान ने बताया कि पिछले दो महीने में बाल विवाह के 8 मामले सामने आए, जिनमें टीम ने मौके पर पहुंच शादी को रूकवाया, सूचना मिलते ही विभाग की टीम मौके पर पहुंच जाती है. रवि लोहान ने बताया कि बाल विवाह के ज्यादातर मामलों में ऐसा देखने में आया है कि या तो लड़की और लड़का के परिवार के लोग अनपढ़ होते है और लड़का-लड़की भी कम पढ़े-लिखे होते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज