जींद जिले का ये गांव कैथल में शामिल, ग्रामीण बोले- अब घटेंगी दूरियां

Virender Puri | News18 Haryana
Updated: September 9, 2019, 3:29 PM IST
जींद जिले का ये गांव कैथल में शामिल, ग्रामीण बोले- अब घटेंगी दूरियां
कैथल का धनौरी गांव

गांव वालों ने आवाज उठाई और ये प्रयास तब तेज हो गए जब पिछले साल पास लगता गांव बरटा को कैथल में शामिल किया गया. उसके बाद गांव को जींद जिले से हटाकर कैथल जिले में शामिल करने की गुहार सरकार से लगाई गई.

  • Share this:
कैथल. जींद जिले का एक गांव हाल ही में कैथल (कैथल) जिले का गांव बना है. हम बात कर रहे हैं कैथल के नए गांव धनौरी (Dhanori Village) की, जो कैथल से लगभग 25 किलोमीटर दूर है. ये गांव पहले जींद जिले में शामिल था, लेकिन जींद जिले से इसकी दूरी लगभग 70 से 75 किलोमीटर हैं, जिसके कारण गांव वासियों को अपने सरकारी कामकाज करवाने के लिए इतना लम्बा रास्ता तय करना पड़ता था.

गांव वालों ने आवाज उठाई और ये प्रयास तब तेज हो गए जब पिछले साल पास लगता गांव बरटा को कैथल में शामिल किया गया. उसके बाद गांव को जींद जिले से हटाकर कैथल जिले में शामिल करने की गुहार सरकार से लगाई गई. मौजूदा सरकार में शिक्षामंत्री रामबिलास शर्मा को गांव वालों ने एक कार्यक्रम में बुलाकर उनके सामने प्रस्ताव रखा.

मंत्री ने ग्रामीणों को विश्वास दिलाया कि वो पूरी कोशिश करेंगे कि गांव धनौरी जींद जिले से हटाकर कैथल जिले में शामिल किया जाए. उन्होंने ये काम करके धनौरी गांव वासियों को एक सौगात दी है. कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने कुछ दिन पहले ही घोषणा की है कि जींद का धनौरी गांव अब कैथल में शामिल कर लिया गया है, ताकि गांव वासियों को लंबा सफर तय करके जींद ना जाना पड़े.

जिला मुख्यालय से दूरी हुई कम

न्यूज़ 18 की टीम धनौरी गांव में पहुंची और लोगों से जाना की कैथल जिले में शामिल होने से उनको किस तरह की खुशी है और किन दिक्कतों से छुटकारा मिला है. लोगों ने बताया कि उनका गांव कैथल जिले में शामिल हो गया है, जिससे जिला मुख्यालय से उनकी लगभग 35 से 40 किलोमीटर की दूरी कम हो गई है. ग्रामीणों ने बताया कि वो लोग किसी भी काम को करवाने के लिए अगर जींद में जाते थे तो उनका पूरा दिन खराब हो जाता था. अगर वो काम किसी वजह से रह जाए तो दोबारा फिर चक्कर लगाना पड़ता था.

ग्रामीण कर रहे सरकार का धन्यावाद

ग्रामीणों ने कहा कि हमारा सारा काम काज व व्यापार कैथल से होता है तो अब हमारे विकास को भी तेजी मिलेगी. कैथल में शामिल होने के बाद गांव के राजनैतिक व प्रशासनिक काम जल्दी से जल्दी होने में मदद मिलेगी. फिलहाल लोग सरकार के इस कदम से बेहद खुश हैं और सरकार को इस काम के लिए बार-बार धन्यवाद कर रहे हैं.
Loading...

यह भी पढ़ें-  सोनीपत में रफ़्तार का कहर, चार दुकानों को तोड़ते हुए बिजली के पोल से टकराई कार

यह भी पढ़ें-ये भी पढ़ें:- हरियाणा में E.N.D.S बैन, अब ई-सिगरेट पीने वालों को मिलेगी 3 साल की सजा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कैथल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 3:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...