लाइव टीवी

अब अंजली को मिलेगा नया घर, बेल्जियम के दंपति लेकर जाएंगे अपने देश 

Virender Puri | News18 Haryana
Updated: September 19, 2019, 1:20 PM IST
अब अंजली को मिलेगा नया घर, बेल्जियम के दंपति लेकर जाएंगे अपने देश 
गोद लेने की प्रक्रिया पूरी होने के बाद अंजली को गोद में उठाए बेल्जियम की निजकृश

कैथल के बाल उपवन आश्रम में पल रही अंजली को अब बेल्जियम में नया घर मिलेगा. बेल्जियम के निजकृश व स्कूब मार्टिन अंजली को अपने देश लेकर जाएंगे. 

  • Share this:
कैथल. शहर में कमेटी चौक स्थित बाल उपवन आश्रम में पल रही अंजली को बेल्जियम के दंपति (Belgium's couple) ने गोद (Adoption) लिया है. गोद लेने की ये प्रक्रिया भारत सरकार ( government of India)और बेल्जियम (Belgium) सरकार के संयुक्त प्रयासों से पूरी हो पाई है. मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी (CJM) तरणजीत कौर, संस्था के प्रधान रवि भूषण गर्ग व अन्य सदस्यों की मौजूदगी में अंजली को निजकृश व स्कूब मार्टिन नाम के दंपति को सौंपा गया. तरणजीत कौर ने बताया कि बाल उपवन आश्रम एक स्पेशलाइज एडोप्शन एजेंसी (Adoption Agency) है. अंजली को जनवरी 2017 में चाइल्ड वेलफेयर कमेटी(CWC) कुरुक्षेत्र ने यहां भेजा था. पूरी कानूनी प्रक्रिया पूरी करने के बाद अंजली को इस आश्रम में  रखा गया और सभी सुविधाएं मुहैया कराते हुए पालन- पोषण किया गया. इसके बाद आश्रम की ओर से सेंट्रल एडोप्शन अथॉरिटी  के पोर्टल पर अंजली की डिटेल डाली गई. चार साल के बाद पोर्टल के माध्यम से बेल्जियम के दंपति निजकृश व स्कुब मार्टिन की गोद लेने की प्रक्रिया पूरी हुई.

बेल्जियम से आए हैं निजकृश व स्कूब मार्टिन

निजकृश व स्कूब मार्टिन दंपति का बेल्जियम में बिजनेस है. अंजली को गोद लेने वाली निजकृश ने कहा- ' हम अंजलि को पाकर बहुत खुश हैं क्योंकि अब इसके साथ हमारा परिवार पूरा हो गया है. अब इसके साथ हम घर जाएंगे. लोगों ने यहां इसका अच्छे ढंग से ख्याल रखा है. हमारा यहां बहुत अच्छी तरह से स्वागत हुआ है. इसे पाकर हम बहुत खुश हैं. हम हमेशा से ही दो लड़के होने के बावजूद बच्चा गोद लेना चाहते थे. इसके लिए हमने भारत को चुना.'

पति और अपने दोनों बेटों के साथ अंजली को गोद में लिए निजकृश


दो लड़के होने के बावजूद लड़की को लिया गोद 

घर में अंजली का ख्याल रखने के बारे में निजकृश ने कहा -' कुछ ही महीने में मेरी जॉब खत्म हो जाएगी. इसके बाद मेरे पास इसके साथ रहकर इसकी देखभाल करने का टाइम होगा.  जब ये स्कूल जाने लगेगी तो फिर से मेरे पास जॉब पर जाने का समय होगा. इसका पहला अहसास हमारे लिए सुखद है.' दो लड़के होते हुए भी अंजली को गोद लेने का कारण बताते हुए निजकृश ने कहा, 'हमें बच्चा चाहिए था. हमने बच्चा गोद लेने वाली एजेंसी के कॉल का इंतज़ार किया. हमें सूचना मिली कि एक लड़की मिल गई है. अब हमारा परिवार पूरा हो गया है. हमारे दो बेटे और एक बेटी है. ये अब बिलकुल परफेक्ट है.'

ये भी पढ़ें- दोस्त के साथ पत्नी का अश्लील वीडियो देख पति हुआ आगबबूला, बीवी को मारी गोलीपत्नी से झगड़ा हुआ तो गुस्से में बाप ने इकलौते बेटे की फंदे से लटका की हत्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कैथल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 19, 2019, 11:18 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर