कृषि बिल का विरोध: कैथल में डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला के खिलाफ नारेबाजी

एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे दुष्यंत चौटाला
एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे दुष्यंत चौटाला

तीन कृषि कानूनों से नाराज चल रहे किसानों और कुछ युवाओं ने दुष्यंत चौटाला के खिलाफ सड़क पर उनकी गाड़ी के पास आकर नारे लगाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 30, 2020, 1:26 PM IST
  • Share this:
कैथल. हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) मंगलवार को कैथल के चीका कस्बे में हलके के विकास को लेकर तीन परियोजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करने पहुंचे. जहां किसानों और युवाओं द्वारा उनका खुलकर विरोध देखने को मिला. तीन कृषि कानूनों से नाराज चल रहे किसानों और कुछ युवाओं ने दुष्यंत चौटाला के खिलाफ सड़क पर उनकी गाड़ी के पास आकर नारे लगाए. कार्यक्रम से पहले दुष्यंत चौटाला के पोस्टर भी फाड़े गए और दो प्रदर्शन (Protest) करने वालों को पुलिस ने हिरासत में भी लिया.

बता दें कि दोपहर करीब 11.30 बजे डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला को गुहला-चीका के नवनिर्मित बीडीपीओ दफ्तर में पहुंचना था. उनके आने से पहले ही कार्यक्रम स्थल के बाहर कुछ किसान धरने पर बैठ गए. वे कृषि विधेयक के विरोध में बैठे थे. जैसे ही दुष्यंत चौटाला का काफिला आया अचानक से वे खड़े हो गए और मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे. जब तक पूरा काफिला नहीं गुजरा तब तक वे नारेबाजी करते रहे. इस दौरान उन्हें पुलिस ने नहीं रोका. हालांकि जब कार्यक्रम शुरू हो गया तो किसान वहां से अपने आप चले गए.

किसानों का कहना था कि सत्ता में आने से पूर्व दुष्यंत चौटाला ने कहा था कि किसानों के हकों पर आंच तक नहीं आने दी जाएगी, लेकिन आज किसानों का शोषण हो रहा है. मंडियों में एमएसपी वाला धान खरीदा नहीं जा रहा. मंडियों में किसान धान लेकर बैठे हुए हैं, लेकिन शासन और प्रशासन किसानों की सुनवाई नहीं कर रहा है.



वहीं उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने अपने चीका दौरे के दौरान आमजन की समस्याओं को सुना. उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार आमजन को भ्रष्टाचार मुक्त सुशासन व्यवस्था दे रही है. सभी अधिकारी आमजन की समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर निपटाएं. इस मौके पर राइस व आढ़ती एसोसिएशन ने उप मुख्यमंत्री से बातचीत की और धान की खरीद कार्य को सुचारू रूप से चलाने की बात कही.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज