आरोपी पक्ष पर घूस के लिए दबाव बना वाले ASI को SP ने किया बर्खास्त

शिकायत के बावजूद एएसआई अपनी करतूत से बाज नहीं आ रहा था. जिसके बाद एसपी ने उसे बर्खास्त कर दिया.
शिकायत के बावजूद एएसआई अपनी करतूत से बाज नहीं आ रहा था. जिसके बाद एसपी ने उसे बर्खास्त कर दिया.

एसपी ने संविधान के अनुच्छेद 311(2) (बी) तथा पंजाब पुलिस नियम 16.2 में निहित शक्तियों का प्रयोग करते हुए एएसआई रमेश को पुलिस विभाग (Police Department) से बर्खास्त कर दिया.

  • Share this:
कैथल. महिला को जहर देकर हत्या (Murder) का प्रयास करने के मामले में आरोपी पक्ष से बार-बार रिश्वत (Bribe) की मांग करने वाले चीका थाना के एएसआई रमेश को एसपी शशांक कुमार सावन ने बर्खास्त कर दिया. केस रद्द होने के बावजूद एएसआई रमेश आरोपी पक्ष को धमकी देता रहता था. परेशान होकर आरोपी पक्ष के लोगों ने एसपी से इसकी शिकायत की. एसपी ने एएसआई को तत्काल सस्पेंड करते हुए जांच शुरू करवाई. लेकिन एएसआई रमेश अपनी हरकतों से बाज नहीं आया. शिकायतकर्ता को ही धमकी देनी शुरू कर दी. जिसके बाद एसपी ने अपने विशेष शक्तियों का प्रयोग करते हुए एएसआई रमेश को  नौकरी से बर्खास्त कर दिया.

केस रद्द कराने के नाम पर मांग रहे थे घूस 

दरअसल हत्या की कोशिश का केस दर्ज होने के बाद एएसआई ने आरोपित पक्ष से रिश्वत की मांग शुरू की. लेकिन जांच के बाद केस ही रद्द हो गया, पर एएसआई घूस के लिए आरोपी पर दबाव बनाता रहा. आरोपित पक्ष इस बात से अनजान था कि उनके खिलाफ दर्ज केस रद्द हो चुका है. उधर एएसआई केस रद्द करवाने के नाम पर एक बार 70 हजार, फिर 60 हजार और उसके बाद 50 हजार रुपए रिश्वत की मांग की. लेकिन आरोपित पक्ष ने एएसआई की कॉल रिकॉर्डिंग कर एसपी को दे दी.



पहले सस्पेंड फिर किया बर्खास्त
एसपी ने इस आधार पर कार्रवाई करते हुए एएसआई रमेश को तत्काल सस्पेंड कर दिया. सस्पेंड होने के बाद एएसआई शिकायतकर्ता को धमकाने लगा कि वह विभागीय जांच में शामिल न हो. शिकायतकर्ता ने धमकी की भी शिकायत एसपी से कर दी.

जिसके बाद एसपी ने संविधान के अनुच्छेद 311(2) (बी) तथा पंजाब पुलिस नियम 16.2 में निहित शक्तियों का प्रयोग करते हुए एएसआई रमेश को पुलिस विभाग से तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया.

ये है पूरा मामला 

पूरा मामला चीका थानाक्षेत्र के गांव थेह नेवल से जुड़ा है. जहां की एक महिला ने 16 जुलाई 2020 को अपने जेठ व दो व्यक्तियों के खिलाफ जहर देकर हत्या की कोशिश करने का केस दर्ज करवाया था. महिला ने आरोप लगाया था कि उसके पति को मौत हो चुकी है. और अब जेठ जमीन के बंटवारे को लेकर उससे मारपीट और गाली गलौज करता रहता है. जेठ ने दो व्यक्तियों के साथ मिलकर जहर देकर उसकी जान लेने की कोशिश की. महिला के आवेदन पर मामले की जांच का जिम्मा एएसआई रमेश को सौंपा गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज