मोटर व्हीकल एक्ट के खिलाफ ई-रिक्शा चालकों में रोष, चालान काटे जाने पर किया विरोध

करनाल में नए मोटर व्हीकल एक्ट के तहत चालान काटे जाने से ई-रिक्शा चालकों में काफी रोष है. गुरुवार को शहरभर के ई-रिक्शा चालक सेक्टर-12 में जमा हुए और पुलिस के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन किया.

Namandeep Singh | News18 Haryana
Updated: September 12, 2019, 5:55 PM IST
मोटर व्हीकल एक्ट के खिलाफ ई-रिक्शा चालकों में रोष, चालान काटे जाने पर किया विरोध
करनाल - न्यू मोटर व्हीकल एक्ट के खिलाफ ई-रिक्शा चालकों में रोष
Namandeep Singh | News18 Haryana
Updated: September 12, 2019, 5:55 PM IST
करनाल. हरियाणा के करनाल (Karnal) में नए मोटर व्हीकल एक्ट (Motor Vehicle Act) के तहत चालान (Challan) काटे जाने से ई-रिक्शा (E-Rickshaw) चालकों में काफी रोष व्याप्त है. गुरुवार को शहरभर के ई-रिक्शा चालक सेक्टर-12 में जमा हुए और पुलिस (Traffick Police) के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए इसका जमकर विरोध प्रदर्शन किया. प्रदर्शन (Demonstration) के दौरान ई-रिक्शा चालकों ने कहा कि वे दिनभर दस-दस रुपये की सवारी ढोते हैं और पुलिस उनका हजारों में चालान काट रही है. ई-रिक्शा चालकों ने कहा कि ये गरीबों के साथ सरासर अन्याय है. ई-रिक्शा चालक यूनियन ने मांग की है कि उनके  ड्राइवरों के ऊपर किए गए चालान को पुलिस माफ करे.

ई-रिक्शा चालक यूनियन ने कहा कि उन्हें उनकी गाड़ियों के कागजात (Documents) बनवाने के लिए थोड़ा वक्त दिया जाए. ई-रिक्शा चालकों ने कहा कि ऐसा इसलिए, क्योंकि उनमें से कोई किराए पर तो कोई किसी से उधार लेकर ई-रिक्शा चला रहा है.

ई-रिक्शा चालक यूनियन ने गाड़ियों के कागजात बनवाने के लिए वक्त दिए जाने की मांग की.


साथ ही उन्होंने शिकायत के लहजे में ये भी कहा कि जब उन्होंने ई-रिक्शा ली थी तब उन्हें कहा गया था कि इसके लिए कागजात की जरूरत नहीं होगी, लेकिन अब उनके साथ इस तरह से बर्ताव किया जा रहा है. चालकों ने कहा कि उनके कई साथियों का हजारों में चालान कर दिया गया है, इसका वे विरोध करते हैं.

ये भी पढ़ें - तीन मंजिला दुकान में लगी आग, 50 लाख का सामान जलकर खाक

ये भी पढ़ें - फेसबुक के जरिए दोस्ती कर युवक ने युवती से किया रेप, महिला थाने में मामला दर्ज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करनाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 12, 2019, 5:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...