लाइव टीवी

​करनाल में हर रोज 50 लोगों को काट खाते हैं कुत्ते और बंदर, नहीं मिल रहे रेबिज के टीके
Karnal News in Hindi

Himanshu Badoni | News18 Haryana
Updated: January 17, 2020, 4:59 PM IST
​करनाल में हर रोज 50 लोगों को काट खाते हैं कुत्ते और बंदर, नहीं मिल रहे रेबिज के टीके
करनाल में रोजाना कम से कम 50 लोग कुत्ते और बंदरों के काटने से घायल हो रहे हैं.

करनाल सिविल हॉस्पिटल (Civil Hospital, Karnal) में कुत्ते व बंदर के काटने के हर रोज 40-50 मरीज पहुंचते हैं. ऐसे में 12 दिन से एंटी रेबिज (Anti Rabies vaccine) के टीके अस्पताल में नहीं है.

  • Share this:
करनाल. हरियाणा के सीएम सिटी करनाल (Karnal) को एक तरफ नगर निगम के अधिकारी शहर को स्मार्ट बनाने के दावे करते नहीं थक रहे, लेकिन सच तो यह है कि आज तक निगम कुत्तों (Dogs Bite) का समाधान नहीं कर पाया. अब आलम यह है कि कुत्तों का आतंक (Terror of Dogs) लगातार बढ़ रहा है. रोजाना कम से कम 10-15 लोग कुत्तों के काटने से घायल हो रहे हैं. कुत्ते बच्चों से लेकर महिलाओं व बुजुर्गों को निशाना बना रहे हैं. इससे भी गंभीर बात यह है कि नागरिक अस्पताल में पिछले 12 दिन से एंटी रेबिज इंजेक्शन ही नहीं है.

12 दिन से सरकारी अस्पतालों में नहीं है मौजूद रेबिज के टीके

मरीज टीका लगवाने के लिये सरकारी अस्पतालों का चक्कर काटते रहते हैं, लेकिन वहां टीके उपलब्ध नहीं होने के चलते उन्हें प्राइवेट अस्पताल में जाकर टीका लगवाना पड़ रहा है. अब शहर के लोग अधिकारियों से गुहार लगाकर थक गए हैं. ऐसे में वे कुत्तों से ही रहम करने की दुआई दे रहे हैं. करनाल सिविल हॉस्पिटल में कुत्ते व बंदर के काटने के हर रोज 40-50 मरीज पहुंचते हैं. ऐसे में 12 दिन से एंटी रेबिज के टीके अस्पताल में नहीं है. इस कारण मरीजों को भटकना पड़ रहा है तो वहीं कुछ मरीज प्राइवेट अस्पताल तो कुछ कल्पना चावला राजकीय मेडिकल कॉलेज में टीका लगवाने पहुंच रहे रहे हैं.

स्कूली बच्चे बनते हैं सर्वाधिक शिकार

गलियों से गुजरते समय ये कटखने कुत्ते टांग पकड़ लेते हैं. शहरवासियों का कहना है कि कुत्तों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है. गलियों में कुत्ते बैठे रहते हैं और जब उनके पास से गुजरते हैं तो कुत्ते काट खाते हैं. ज्यादातर कुत्ते स्कूल आते जाते समय बच्चों को काटते हैं. उन्होंने कई नगर निगम में शिकायत भी की है कि वह कुत्तों की इस समस्या से निजात दिलाएं लेकिन नगर निगम की ओर से कोई आश्वासन नहीं मिला है.

कुत्ते व बंदर के काटने पर लगते हैं चार टीके

कुत्ते व बंदर के काटने पर चार टीके लगते हैं. सरकारी अस्पताल में पीड़ित को हर टीके के लिए 100 रुपए की पर्ची कटवानी पड़ती है, लेकिन प्राइवेट अस्पताल में यह टीका तीन गुणा दाम लेकर लगाया जाता है. वहीं सिविल हॉस्पिटल के सीएमओ अश्वनी आहूजा ने कहा कुछ दिनों से ही एंटी रेबिज के टीके समाप्त हुये हैं जल्द ही टीके हस्पताल में पहुंचेंगे.यह भी पढ़ें: पानीपत जिले को आमिर खान के हाथों मिला स्वच्छता के मामले में नंबर वन का खिताब

IAS अधिकारी के बेटे को ए ग्रेडेशन सर्टिफिकेट देने पर खेमका ने CM को लिखा पत्र

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करनाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 17, 2020, 4:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर