होम /न्यूज /हरियाणा /

जश मर्डर केस: पुलिस बोली- किसी भी प्रकार का शक बाकी नहीं, चाची अंजलि ने ही की थी हत्या

जश मर्डर केस: पुलिस बोली- किसी भी प्रकार का शक बाकी नहीं, चाची अंजलि ने ही की थी हत्या

पुलिस ने बताया कि आरोपी चाची अंजलि साइको है.

पुलिस ने बताया कि आरोपी चाची अंजलि साइको है.

Jass Murder Case: अंजलि ने बैग को हत्या करने वाले कमरे के सामने वाले कमरे से बरामद करवाया था. जश की चप्पल को पॉलिथीन में डालकर कूड़ा कर्कट में फेंक दिया था.

करनाल. जश की हत्या का मामला भले ही पुलिस ने झुलसा दिया हो. डीएनए रिपोर्ट आ चुकी हैं. अपराधी जेल पहुंचा दिए हों, पर अभी भी लोगों को पुलिस की जांच एक कहानी लग रही है. मामले की जांच करने वाले इंस्पेक्टर माेहन लाल ने मीडिया से बातचीत में इन सभी प्रश्नाें का उत्तर किया. मोहन लाल ने बताया कि घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस की टीमें गांव में पहुंच गई थी. इसके बाद अलग-अलग जगह के हिसाब से टीम तय करके ड्यूटी लगाई गई थी ताकि कोई भी गांव से बाहर ना निकले.

बाबा गांव में था. हमने मुकदमा भी अपहरण का ही दर्ज किया था. अगले दिन जश का शव मिल गया तो तय हो गया कि बाबा के पास बच्चा नहीं था. बार-बार जांच में आया कि अंतिम समय में बच्चा अंजलि के पास रहा. इस दौरान अंजलि ने मोबाइल वायर के साथ जश की हत्या कर दी. हर वारदात के पीछे एक मंशा होती है. बार-बार पूछताछ में मंशा तय नहीं हुई. रिमांड भी दो बार में 5 दिन का लिया गया. सामने यही आया कि मनोरोगी होना पाया गया.

मनोरोगी होने के दो तीन घटनाक्रम भी बताए हैं. उसका सारा रिकॉर्ड लिया गया. उनसे सलाह के बाद बोर्ड गठन करवाया गया. बोर्ड ने प्राथमिक जांच में साइको की समस्या है. कितनी है इसके लिए एडमिट करने करके ऑब्जर्वेशन में रखकर ही इसका स्तर बता सकते हैं. शुरू से ही टीम वैज्ञानिक और निष्पक्ष तरीके से जांच की है.

अंजली ने जब दोबारा सीन को रि-क्रिएट किया तो गांव के लोगों को साथ रखा. एक एक चीज को बरामद करवा दिया गया है. डीएनए रिपोर्ट आ गई, डॉक्टरों की रिपोर्ट आ गई. ऐसे में कहां पर गुंजाइश रहती है कि अंजलि ने हत्या नहीं की. अंजलि ने बैग को हत्या करने वाले कमरे के सामने वाले कमरे से बरामद करवाया था. जश की चप्पल को पॉलिथीन में डालकर कूड़ा कर्कट में फेंक दिया था.

अंजलि की बताए अनुसार पहले कुआं के स्थान पर कचरा डाला जा रहा है, वहां से वीडियोग्राफी व ग्रामीणोंं की मौजूदगी में चप्पल बरामद हुई हैं. जहां पर बच्चे का ब्लड मिला उसको जांच के लिए भेजा है. सभी सैंपल के डीएनए रिपोर्ट मांगी थी. बोर्ड की तरफ से रिपोर्ट आ चुकी है. वो ब्लड बच्चे का ही था. अब मामले में किसी भी प्रकार का शक बाकी नहीं है. सभी साक्ष्यों व अन्य सबूतों के लिए बोर्डों का गठन करवाया.

अंजलि ने पूरी घटना को बताया. घटना पर जांच की तो पूरा मामला सही मिला. इसमें बहुत जल्दी चार्जशीट फाइल कर दी जाएगी. वहीं उन्होंने कहा कि गर्भवती महिला यदि अपराध करती है तो उसे कम सजा नहीं होती. साइको को लेकर हम चालान कोर्ट में पेश किया जाएगा. कोर्ट को तय करना है साइको का क्या स्तर है. डॉक्टरों से पूछा तो बताया कि कई लोगों को ज्यादा सोचने के कारण ऐसा हो सकता है. कई बार कारण किसी घटना के कारण ऐसा हो जाता है.

Tags: Haryana news, Murder

अगली ख़बर