• Home
  • »
  • News
  • »
  • haryana
  • »
  • हरियाणा: छावनी में तब्दील हुआ करनाल, ड्रोन से निगरानी, किसानों की लघु सचिवालय को घेरने की योजना

हरियाणा: छावनी में तब्दील हुआ करनाल, ड्रोन से निगरानी, किसानों की लघु सचिवालय को घेरने की योजना

करनाल में विरोध कर रहे किसानों पर पुलिस लाठीचार्ज के एक दिन बाद एसकेएम ने नूंह में एक महापंचायत का आयोजन किया. (पीटीआई)

करनाल में विरोध कर रहे किसानों पर पुलिस लाठीचार्ज के एक दिन बाद एसकेएम ने नूंह में एक महापंचायत का आयोजन किया. (पीटीआई)

Karnal Kisan Mahapanchayat: किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने किसानों से अपील की है कि वो विरोध प्रदर्शन के दौरान शांति बनाए रखें.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    करनाल (हरियाणा). किसानों के लघु सचिवालय के घेराव की धमकी को देखते हुए करनाल शहर में भारी पुलिस और पैरामिलेट्री बल तैनात कर दिया गया है और उसे पूरी तरह से छावनी में बदल दिया गया है. पूरे जिले भर में ऐसी जगह जो संवेदनशील हैं जैसे अनाज मंडी वहां पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है. किसानों के घेराव के लिए आगे बढ़ने से पहले अनाज मंडी में ही एकत्र होने की योजना है.

    कुछ किसानों ने दलों के रूप में अनाज मंडी की तरफ बढ़ना शुरू भी कर दिया है. अधिकारियों का कहना है कि किसानों को अनाज मंडी में जमा होने से नहीं रोका जाएगा, लेकिन उन्हें लघु सचिवालय की तरफ बढ़ने से रोका जाएगा. किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने किसानों से अपील की है कि वो विरोध प्रदर्शन के दौरान शांति बनाए रखें.

    ‘नमाज Vs पूजा’: अब बिहार में BJP विधायक ने मांगी विधानसभा में हनुमान चालीसा पढ़ने की इजाजत

    लघु सचिवालय की तरफ जाने वाली सड़कों पर सुरक्षा प्रबंधन के लिए बैरिकेड लगाए गए है. हालांकि पुलिस ने लघु सचिवालय के आस पास कुछ डायवर्जन किए हैं इसलिए एनएच-44 पर ट्रैफिक प्रभावित नहीं हुआ है. इसके साथ ही 5 पुलिस अधीक्षक रैंक के अधिकारी, 25 डीएसपी को कानून-व्यवस्था संभालने के लिए यहां तैनात किया गया है. पुलिस किसानों पर निगरानी बनाए रखने के लिए ड्रोन कैमरे का इस्तेमाल कर रही है.

    काबुल में ‘पाकिस्तान मुर्दाबाद’ के नारे लगा रहे थे प्रदर्शनकारी, तालिबान ने बरसाई गोलियां

    जिला प्रशासन ने पहले ही शहर में धारा 144 लगा दी है. यहां तक कि इंटरनेट सेवाओं को भी बंद किया गया है. किसानों की मांग है कि घरौदा ब्लॉक के किसान सुशील काजल जो विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई लाठी चार्ज से पहले घायल हुए और बाद में दिल का दौरा पड़ने से जिनकी मौत हो गई, उनके परिवार को 25 लाख रुपये मुआवजा और उनके बेटे को नौकरी दी जाए, करनाल के एसडीएम आयुष सिन्हा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए और जो लोग प्रदर्शन के दौरान घायल हुए उन्हें 2 लाख रुपये मुआवजा दिया जाए.

    वहीं भारतीय किसान संघ के नेता राकेश टिकैत ने बताया कि करनाल प्रशासन और विरोध कर रहे किसानों के बीच बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकला है. किसानों की 11 सदस्यीय समिति जो बातचीत कर रही थी अनाज मंडी के लिए रवाना हो गई है और जल्दी ही आगे की कार्रवाई के बारे में घोषणा करेगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज