शहीद फौजी का ढाबा तोड़ने पहुंचा नगर निगम, विरोध के बाद रुकी कार्रवाई

विरोध में ढाबा मालिक ने कहा कि ढाबे को तोड़ने के लिए नगर निगम के पास कोई भी दस्तावेज नहीं है, जबकि उनके पास ढाबे की रजिस्ट्री है और पिछले 35 साल से यहां ढाबा चला रहे हैं.

Namandeep Singh | News18 Haryana
Updated: September 5, 2019, 3:20 PM IST
शहीद फौजी का ढाबा तोड़ने पहुंचा नगर निगम, विरोध के बाद रुकी कार्रवाई
करनाल - पूर्व फौजी के पक्ष में जमा हुए फौजियों ने कहा कि इस ढाबे के पीछे एक दाना पानी रेस्टोरेंट है उसकी मदद करने के लिए ये सब किया जा रहा है.
Namandeep Singh | News18 Haryana
Updated: September 5, 2019, 3:20 PM IST
करनाल. हरियाणा के करनाल स्थित नेशनल हाइवे पर कर्ण लेक के पास स्थित शहीद फौजी के ढाबे को तोड़ने के लिए नगर निगम के अधिकारी पहुंच गए. यह बताया जा रहा है कि जैसे ही करनाल नगर निगम (Karnal Municipal Corporation) दल बल के साथ फौजी ढाबा (Fauji Dhaba) को तोड़ने पहुंचा तब इस घटना की सूचना पाते ही ढाबे के मालिक सहित पूर्व फौजी और कर्मचारी संघ के सदस्य व राजनीति से जुड़े कार्यकर्ता वहां पहुंच गए. इनलोगों ने ढाबे को तोड़े जाने का जबरदस्त विरोध (Protest) किया.

 ढाबा तोड़ने के लिए नगर निगम के पास कोई भी दस्तावेज नहीं 

विरोध करते हुए इन्होंने कहा कि ढाबा को तोड़ने के लिए नगर निगम के पास कोई भी दस्तावेज (Documents) नहीं है, जबकि उनके पास ढाबे की रजिस्ट्री (Registry) भी मौजूद है. गौरतलब है कि यह ढाबा पिछले 35 साल से यहां चलाया जा रहा है.



'दाना पानी रेस्टोरेंट की मदद करने के लिए ही ये सब किया जा रहा है'

वहीं पूर्व फौजी (Ex-Servicman) के पक्ष में जमा हुए फौजियों ने कहा कि इस ढाबे के पीछे एक दाना पानी रेस्टोरेंट है, उसकी मदद करने के लिए ही ये सब किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि फौजियों के साथ ऐसा भद्दा मजाक नगर निगम और प्रशासनिक अधिकारी करेंगे तो उसका पुरजोर विरोध किया जाएगा और किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं होने दी जाएगी.

तहसीलदार महेंद्र सिंह ने कहा कि अब दोनों तरफ से बातचीत के बाद जो फैसला होगा उसी के अनुसार कार्रवाई की जाएगी.

Loading...

बातचीत के बाद होगा फैसला

मौके पर पहुंचे तहसीलदार (Depositary) महेंद्र सिंह ने बताया कि वह ढाबे को सील करने के लिए पहुंचे थे मगर अब दोनों तरफ से बातचीत की जाएगी. फिर जो भी फैसला होगा उसी के अनुसार कार्रवाई की जाएगी. यहां मौजूद सदर थाना के एसएचओ बलजीत सिंह ने कहा कि करनाल हाईवे पर ढाबे को सील करना था, इसके लिए नगर निगम के कर्मचारियों को पुलिस प्रोटेक्शन दी गई है. उन्होंने कहा कि उनका काम कानून व्यवस्था को बनाए रखना और इसकी ही उन्होंने व्यवस्था की है.

ये भी पढ़ें - गुरुग्राम में घरेलू सहायिका को हवालात में निर्वस्त्र कर पुलिस ने पीटा

ये भी पढ़ें - 1 दिन का कहकर 4 दिन बाद लौटी घर, पति की नाराजगी पर कराई भाइयों से पिटाई...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करनाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 2:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...