आसमान में फैली धूल से बढ़ी परेशानियां, दमा रोगियों को घर से बाहर न निकलने की सलाह

करनाल में पिछले 2 दिनों से आसमान में फैली धूल लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गई है. ज्यादा परेशानी दोपहिया वाहन चालकों को हो रही है क्योंकि धूल के कण नाक के रस्ते शरीर में जा कई गम्भीर बीमारियों का कारण बन सकते हैं.

Namandeep Singh
Updated: June 14, 2018, 12:58 PM IST
आसमान में फैली धूल से बढ़ी परेशानियां, दमा रोगियों को घर से बाहर न निकलने की सलाह
प्रतिकात्मक तस्वीर
Namandeep Singh
Updated: June 14, 2018, 12:58 PM IST
पिछले 2 दिनों से आसमान में फैली धूल से जनता परेशान हो गई है. इस धूल के चलते सांस लेना अब मुश्किल हो गया है. डीएम घट रहा है और इस जहरीली धूल में लोग अपने चेहरे को ढक  बाहर निकल रहे हैं. आंखों में जलन, चमड़ी में खारिश और अन्य कई परेशानियां सड़क पर चलने वालों को हो रही है.

अधिकांश लोग मुंह को ढक कर काम पर निकल रहे हैं. इसी बीच डॉक्टरों का कहना है की जिन लोगों को दिल, दमा, आंखों या स्किन की बीमारी है वो घर से बहार न निकले क्योंकि वातावरण में फैली धुंध से सांस लेने में परेशानी जानलेवा भी हो सकती है.

करनाल में पिछले 2 दिनों से आसमान में फैली धूल लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गई है. ज्यादा परेशानी दोपहिया वाहन चालकों को हो रही है क्योंकि धूल के कण नाक के रस्ते शरीर में जा कई गम्भीर बीमारियों का कारण बन सकते हैं.

वहीं डॉक्टरों की सलाह है कि इस मौसम में दिल के मरीज, दमा से पीड़ित व्यक्ति  और बच्चे, चमड़ी रोग से पीड़ित व्यक्ति घर से बाहर न निकलें. अगर जाना मजबूरी भी हो तो कार के शीशे बंद कर के चलें ताकि धूल के कण आपके शरीर से सम्पर्क में न आयें. डॉक्टरों का कहना है की धूल के कारण वातावरण में ऑक्सीजन की कमी के चलते जिन लोगों को दिल की बीमारी है वो भी अपना ख़ास ध्यान रखें. बरसात और तेज हवा चलने के बाद ही लोगों को राहत मिलेगी..
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर