करनाल: बेबसी में अपनों ने मोड़ लिया मुंह, बीमारी में पत्नी, भाई और पिता ने छोड़ा साथ
Karnal News in Hindi

करनाल: बेबसी में अपनों ने मोड़ लिया मुंह, बीमारी में पत्नी, भाई और पिता ने छोड़ा साथ
घर के बाहर बैठा बीमार शख्स

स्थानीय लोगों का कहना है कि पुलिस (Police) की मदद से ये शख्स कई घंटों बाद अपने घर के अंदर पहुंच गया लेकिन पता नहीं कब तक यहां इसकी देखभाल होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 25, 2020, 10:07 AM IST
  • Share this:
करनाल. सीएम सिटी करनाल से रिश्तों को शर्मसार करने का मामला सामने आया है. जहां एक पैरालाइज्ड शख्स को घर से बाहर निकाल दिया. ना पिता और भाई ने अपनाया और ना ही पत्नी ने. बेबस ये शख्स घंटों अपने ही घर के बाहर पड़ा रहा.

बता दें कि करनाल के आरके पुरम में रिश्तों को शर्मसार करने,इंसानियत को झकझोर देने का मामला सामने आया है. यहां एक पैरालाइसिस से पीड़ित व्यक्ति कई घंटे अपने ही घर के बाहर बैठा रहा. पड़ोसियों ने पुलिस को बुलाया तब जाकर उसे उसके घर ले जाया गया.

घर में विवाद होने पर भाई और पिता साथ ले गए



दरअसल ये शख्स अपनी पत्नी के साथ रहता था. घर में विवाद हुआ तो उसके भाई और पिता उसे अपने साथ ले गए. पर ज्यादा दिन तक भाई और पिता ने भी उसे नहीं रखा और इसका साथ छोड़ दिया. दोनों इसे घर के बाहर छोड़ कर चले गए. ना पत्नी ने उसकी सुध ली और ना भाईयों को उसकी हालत पर दया आई.
पुलिस ने घर के अंदर पहुंचाया

स्थानीय लोगों का कहना है कि पुलिस की मदद से ये शख्स कई घंटों बाद अपने घर के अंदर पहुंच गया लेकिन पता नहीं कब तक यहां इसकी देखभाल होगी. ये हमारे समाज की हमारे रिश्तों की कड़वी सच्चाई है कि जब शरीर साथ छोड़ देता है तो अपने भी साथ छोड़ देते हैं और इंसान बेसहारा,बेबस हो जाता है.

लोग पूछ रहे ये सवाल

कलयुग में अपनों को बुरे वक्त में साथ छोड़ना हैरान भी नहीं करता लेकिन इंसानियत को कचोटता बहुत है. खून के रिश्तों को यूं तिलतिल कर मरते देखते हुए सवाल उठते हैं कि ये कैसे रिश्ते जो जरूरत पड़ने पर आपका साथ नहीं देते आपकी बेबसी में बस पल्ला झाड़ लेते हैं. क्यों हमारे परिवारों की नींव इतनी कमजोर हो गई है. क्या रिश्ते सिर्फ पैसे से रह गए हैं. लाचारी,बीमारी में क्यों अपने ही हाथ छुड़ा लेते हैं? क्यों मर रही है हमारी इंसानियत?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज