हरियाणा: यमुना उफान पर, करनाल के दर्जनों गांवों में बाढ़ का अलर्ट

Namandeep Singh | News18 Haryana
Updated: August 19, 2019, 9:33 AM IST
हरियाणा: यमुना उफान पर, करनाल के दर्जनों गांवों में बाढ़ का अलर्ट
हरियाणा के करनाल के दर्जनों गांव पर डूबने का खतरा मंडराने लगा है.

हथनीकुण्ड बैराज से करीब साढ़े 6 लाख क्यूसिक से अधिक पानी छोड़े जाने के बाद हरियाणा के करनाल के दर्जनों गांव पर डूबने का खतरा मंडराने लगा है.

  • Share this:
उत्तराखंड के हथनीकुण्ड बैराज से करीब साढ़े 6 लाख क्यूसिक से अधिक पानी छोड़े जाने के बाद हरियाणा के करनाल के दर्जनों गांव पर डूबने का खतरा मंडराने लगा है. यही वजह है कि करनाल जिला प्रशासन ने यमुना किनारे बसे दर्जनों गांवों में अलर्ट जारी किया है. जिला प्रशासन ने ग्रामीणों को शिफ्ट करने के लिए सभी विभागों को तैयार रहने के निर्देश भी दे दिए हैं. करनाल में सोमवार की सुबह तक पानी पहुंचने की संभावना जताई जा रही है. करनाल के उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने किसानों से यमुना तट के साथ लगते खेतों में ना जाने की अपील की है.

यमुना में नाव लेकर भी ना जाएं ग्रामीण : उपायुक्त

flood-karnal- करनाल बाढ़
जिला प्रशासन ने ग्रामीणों को शिफ्ट करने के लिए सभी विभागों को तैयार रहने के निर्देश भी दे दिए हैं.


उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने इन्द्री और घरौंडा क्षेत्र के यमुना के साथ लगते गांवों में ग्रामीणों को सख्त हिदायत जारी करते हुए कहा है कि प्रदेश की सीमाओं के साथ लगते पड़ोसी राज्यों में अधिक बारिश के कारण यमुना नदी उफान पर है और कोई भी नदी के पास ना जाएं. उन्होंने ग्रामीणों को खतरे से आगाह करते हुए अपील की है कि वे यमुना नदी में नाव लेकर भी ना जाएं.



अलर्ट पर इन विभागों को रहने के दिए निर्देश

उपायुक्त ने मीडिया कर्मियों से बातचीत में कहा कि हथनीकुण्ड बैराज से लगभग साढे 6 लाख क्यूसिक से अधिक पानी छोड़ा गया है. इस कारण यह हिदायत जारी की जा रही है ताकि जान व माल के नुकसान से बचा जा सके. उन्होंने बताया कि लोगों की सुरक्षा के लिए सिंचाई विभाग, राजस्व विभाग तथा पुलिस विभाग को भी अलर्ट पर रखा गया है.
Loading...

इन विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों की छुट्टी की गई कैंसिल

विनय प्रताप सिंह ने कहा कि इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य विभाग और पशुपालन विभाग को भी बाढ़ आने की स्थिति में राहत पहुंचाने के लिए तैयार रहने को कहा गया है और इन सभी विभागों को अगले 48 घंटे डयूटी पर तैनात रहने व अधिकारियों तथा कर्मचारियों को अपना स्टेशन ना छोडने के लिए भी आदेश दिए गए हैं. जिले में यमुना नदी के सभी किनारों पर भी नजर बनाए रखने के लिए कहा गया है.

बाढ़ आने की स्थिति पर इस नंबर पर करें कॉल

उन्होंने बताया कि प्रशासन द्वारा बाढ आने की स्थिति में सभी प्रकार के बाढ राहत उपकरण व साम्रगी की उपलबधता सुनिश्चित कर ली गई है और प्रशासन द्वारा बाढ कंट्रोल रूम बनाया गया है. किसी भी किनारे के टूटने तथा पानी के ओवरफ्लो होकर गांव में घुसने की स्थिति की सूचना कंट्रोल रूम के दूरभाष नम्बर- 2267271 तथा पुलिस कंट्रोल रूम के दूरभाष नम्बर 100 पर अविलम्ब सांझा करें.



इन गांवों के लिए जारी हुआ अलर्ट

उपायुक्त विनय प्रताप सिंह का कहना है कि इन्द्री खंड के चौगामा, हंसू माजरा, चन्द्राव, गढी बीरबल, नाबियाबाद, जपती छपरा, सैय्यद छपरा, कमालपुर गडरियान, डबकौली खुर्द व डबकौली कलां तथा कुंजपुरा खंड के शेरगढ टापू, जडौली, नबीपुर, कुण्डा कलां आदि गांवों को अलर्ट पर रखा गया है. इसी प्रकार करनाल खंड के जम्मूखाला, मुस्तफाबाद, ढाकवाला गुजरान व दिलावरा तथा घरौंडा खंड के लालूपुरा, सदरपुर, मुण्डी गढी और बलहेडा आदि गावों में यमुना के पानी आने की सूचना जारी की गई है और प्रशासन से जुड़े अधिकारी पूरी तरह से तैयार है ताकि जनता को कीई भी परेशानी ना हो.

यह भी पढ़ें: IMD की चेतावनी, अगले 24 घटें में हिमाचल प्रदेश समेत में इन राज्यों में हो सकती है भारी बारिश

DCP सुसाइड केस: हनीट्रैप में फंसाकर 2 करोड़ मांग रहा था SHO

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए करनाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 7:45 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...