कुमारी सैलजा ने अकाली दल पर साधा निशाना, बोलीं- उंगली कटवाकर शहीद कहलाना चाहते हैं

हरियाण कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी शैलजा.
हरियाण कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी शैलजा.

शिरोमणि अकाली दल(SAD)-भाजपा (BJP) गठबंधन टूटने पर कांग्रेस (Congress) की प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा(Kumari Selja) ने अकाली दल बर बड़ा हमला बोला है. उन्होंने कहा कि ये उंगली कटवाकर शहीद कहलाना चाहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 27, 2020, 2:47 PM IST
  • Share this:
अंबाला. कृषि अध्यादेशों (Agricultural Ordinance) के मुद्दे पर शिरोमणि अकाली दल और NDA का गठबंधन टूटने के बाद दोनों दलों के नेता (Leaders) कई राजनितिक पार्टियों (Political Parties) के निशाने पर आ गये हैं. वहीं कांग्रेस(Congress) की हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा (Kumari Selja) ने अकाली दल पर तीखी टिप्पणी की है. शैलजा ने कहा कि क्या ये उंगली कटवाकर शहीद कहलाना चाहते हैं?. शैलजा ने अकाली दल के फैसले को दिखावा करार दिया और कहा कि जब किसान (Farmer) वर्ग सड़कों पर आ गया है तो क्या इन्हें NDA के अंदर लड़ाई नहीं लड़नी चाहिए थी.

MSP के मुद्दे पर यह बयान देकर कि जिस दिन MSP खत्म होगी उसी दिन मैं इस्तीफा दे दूंगा. डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला भी विपक्षियों के निशाने पर आ गए हैं. दुष्यंत चौटाला के इसी बयान पर भी कुमारी शैलजा ने प्रतिक्रिया दी है. शैलजा ने कहा कि इस्तीफे के लिए दुष्यंत कब तक इंतजार करेंगे. अकाली दल ने तो किया नहीं. शैलजा ने कहा कि इन्हें पहले दिन ही इस्तीफा दे देना चाहिए था और बीजेपी से अलग हो जाना चाहिए था, लेकिन ये अभी भी सत्ता में बैठे हैं.

हरियाणा में सीएम फ्लाइंग स्क्वायड की तर्ज पर बनेगा होम मिनिस्टर स्क्वायड, अपराध पर लगेगी लगाम



कांग्रेस अब किसान की लड़ाई सड़क से लेकर सदन तक लड़ने की बात कह रही है, जिसकी शुरुआत कल कांग्रेस चंडीगढ़ से करने जा रही है. कुमारी शैलजा ने कहा कि कल चंडीगढ़ में कांग्रेस मौजूदा विधायकों, पूर्व विधायकों, पूर्व सांदसों, पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ राजभवन तक पैदल मार्च निकालेगी और अंत मे एक ज्ञापन राष्ट्रपति के नाम राज्यपाल को सौंपा जाएगा.
कांग्रेस ने सरकार के खिलाफ आने वाले दिनों में मोर्चा खोलने की रणनीति भी तय कर ली है. कुमारी शैलजा ने बताया कि आगामी 2 तारीख को गांधी जयंती के मौके पर कांग्रेस धरना देकर सरकार को जगाने का प्रयास करेगी. सरकार गरीबों और मजदूरों की तरफ भी ध्यान दे. वहीं उसके बाद 10 तारीख को किसान सम्मेलन भी किया जाएगा.
किसान आंदोलन पर सरकार के रुख को अड़ियल रुख करार देते हुए भी कुमारी शैलजा ने सरकार को जमकर घेरा है. शैलजा ने कहा कि ये जमीनी स्तर की बात नहीं कर रहे. शैलजा का कहना है कि इस काले कानून का आने वाले समय मे बहुत गलत प्रभाव पड़ेगा और भाजपा में सिर्फ एक के ही मन की बात कही जाती है. शैलजा ने कहा कि ये किसान की मदद करने की बजाय किसान की मदद के संसाधन खत्म करने जा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज