खुद के ही बच्चों को अपना साबित करने के लिए दंपति को थाने में दिखाना पड़ा पहचान पत्र

कुरुक्षेत्र के लाडवा में शहरवासियों ने मंगलवार सुबह कार में जा रहे एक परिवार को बच्चा चोर गिरोह समझकर पकड़ लिया और फिर पुलिस के हवाले कर दिया

News18 Haryana
Updated: August 14, 2019, 8:05 AM IST
खुद के ही बच्चों को अपना साबित करने के लिए दंपति को थाने में दिखाना पड़ा पहचान पत्र
खुद के ही बच्चों को अपना साबित करने के लिए दंपति को थाने में दिखाना पड़ा पहचान पत्र
News18 Haryana
Updated: August 14, 2019, 8:05 AM IST
हरियाणा में बच्चा चोर गिरोह की अफवाह ने एक दंपति को काफी मुश्किलों में डाल दिया. दरअसल, कुरुक्षेत्र के लाडवा में शहरवासियों ने मंगलवार सुबह कार में जा रहे एक परिवार को बच्चा चोर गिरोह समझकर पकड़ लिया और फिर पुलिस के हवाले कर दिया. हालांकि गनीमत यह रही कि किसी ने उनके साथ मारपीट नहींं की. वहीं थाने में परिवार को पहचानपत्र के आधार पर अपने ही बच्चों को अपना साबित करना पड़ा. इस दौरान परिवार में शामिल 3 महिलाएं व 5 बच्चे बुरी तरह सहम गए.

पिंडदान कर लौट रहा था परिवार

मिली जानकारी के मुताबिक जिला हिसार के गांव सहलपुर के सुरेंद्र कुमार और सुनील मंगलवार को हरिद्वार से अपने किसी परिजन का पिंडदान कराकर परिवार के साथ वापस गांव जा रहे थे. उन्होंने बच्चों को कार की डिक्की में बैठा रखा था. डिक्की का लॉक भी नहीं लगा था इसिलए जहां भी गाड़ी धीमी हो रही थी या रुक रही थी, तो बच्चे डिक्की खोलकर बाहर झांकने लगे रहे थे. इस दौरान कार सुबह के समय जब लाडवा के इंद्री चौक पहुंची तो वहां जाम में वे फंस गए.

डिक्की में बच्चों को बैठा देख लोगों ने समझ लिया बच्चा चोर गिरोह

लिहाजा, इस दौरान बच्चों ने फिर डिक्की को ऊपर उठा दिया. लोगों ने डिक्की में बच्चों को बैठा देखकर बच्चा चोर गिरोह समझ लिया. इसके बाद शोर मचाने लगे. वहीं जाम खुलने के बाद कार आगे बढ़ गई. कुछ लोगों ने अपने वाहन से कार का पीछा करना शुरू कर दिया. लाडवा-कुरुक्षेत्र रोड पर गोशाला से पहले उनकी कार को ओवरटेक कर आगे अपने वाहन अड़ाकर जबरन रुकवा लिया.

सोशल मीडिया पर वायरल

इसके बाद कार में बैठे लोगों को लाडवा थाने ले गए. इस दौरान बच्चा चोर पकड़े जाने का मैसेज भी सोशल मीडिया में वायरल हो गया. इसके बाद बड़ी संख्या में शहरवासी थाने पहुंच गए. पूछताछ में जब असलियत सामने आई तो थाने में जमा भीड़ धीरे-धीरे खिसकने लगी, लेकिन डेढ़ घंटे चले इस ड्रामे में परिवार को बड़ी परेशानी झेलनी पड़ी.
Loading...

इसके बाद थाना प्रभारी ओमप्रकाश ने पीड़ित परिवार के सदस्यों को बैठाकर चाय-नाश्ता कराया. बाद में उनके पहचानपत्र की फोटोकॉपी लेकर उन्हें घर भेज दिया.

ये भी पढ़ें:- कांग्रेस की महिला जिलाध्यक्ष और उनके ड्राइवर पर हमला 

ये भी पढ़ें:- हरिद्वार से 250 रुपये में लाया चाकू और कर दी दोस्त की हत्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कुरुक्षेत्र से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 14, 2019, 7:56 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...