लाइव टीवी

कुरुक्षेत्र NIT दीक्षांत समारोह: राजनाथ सिंह बोले- आतंकवादियों के पास ज्ञान होता है, संस्कार नहीं
Kurukshetra News in Hindi

Ashok Yadav | News18 Haryana
Updated: February 20, 2020, 4:26 PM IST
कुरुक्षेत्र NIT दीक्षांत समारोह: राजनाथ सिंह बोले- आतंकवादियों के पास ज्ञान होता है, संस्कार नहीं
राजनाथ सिंह NIT के दीक्षांत समारोह में शामिल हुए.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा कि शिक्षा से अधिक संस्कारों की जरूरत होती है, नहीं तो शिक्षित आतंकवादी भी होता है.

  • Share this:
कुरुक्षेत्र. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (NIT) कुरुक्षेत्र के 17वें दीक्षांत समारोह में शिरकत करने पहुंचे. रक्षा मंत्री ने अपने सम्बोधन में कहा की हमारे लिए गौरव की बात है कि हरियाणा राज्य के लगभग हर गांव का व्‍यक्ति सेना में है. रक्षा मंत्री ने कहा कि जीवन में ज्ञान से ज्‍यादा संस्कार अहम है. राजनाथ सिंह ने कहा कि आंतकवादियों (Terrorists) के पास भी ज्ञान होता है, लेकिन संस्कार नहीं.

रक्षा मंत्री ने कहा कि आतंकवादी अशिक्षित नहीं हैं, वे ग्रेजुएट हैं और उनके पास तकनीकी डिग्रियां भी हैं. वे भी जवान हैं और जीवन में कुछ करने का जज्बा रखते हैं, लेकिन संस्कारों की कमी के चलते वो लोगों को मारते हैं. रक्षा मंत्री ने कहा कि शिक्षा से अधिक संस्कारों की जरूरत होती है, नहीं तो शिक्षित आतंकवादी भी होता है. वह संस्कारों के बिना हत्या करने लग जाता है और छोटे मन वाला व्यक्ति कभी आगे नहीं बढ़ पाता. व्यक्ति के लिए चरित्र बड़ा होना चाहिए.

रक्षा मंत्री ने दिया ये उदाहरण

उन्होंने कहा कि दीक्षांत समारोह दीक्षांत समारोह इसलिए होता है, क्योंकि ज्ञान से बढ़कर संस्कारों का जीवन मूल्य में बड़ा महत्व होता है. उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि सभी आतंकवादी भी अशिक्षित नहीं पढ़े लिखे होते हैं, लेकिन संस्कार विहीन होने के कारण जीवन मूल्यों का अंतर नहीं जानते. उन्होंने कहा कि  मनुष्य के विचार बुद्धि से नहीं मन से पैदा होते हैं और मनोभाव पर बहुत कुछ निर्भर करता है.



छोटे मन का व्यक्ति बड़ा नहीं हो सकता

उन्होंने कहा कि छोटे मन का व्यक्ति बड़ा नहीं हो सकता और टूटे मन का व्यक्ति खड़ा नहीं हो सकता. मन जितना बड़ा होगा उतनी ही आध्यात्मिक ऊंचाइयां हासिल करेगा उन्होंने कहा कि भारतवर्ष को विश्व महाशक्ति नहीं विश्व गुरु पद पर आसीन होना चाहिए. उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि एप्पल के संस्थापक स्टीव ने व्हाट्सएप के मार्कजुकरबर्ग को कहा था कि यदि आंतरिक उर्जा प्राप्त करना चाहते हो तो भारतवर्ष के नैनीताल में जाओ.

'भारत ने हमेशा चरित्र को दी प्राथमिकता'
राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत ने हमेशा चरित्र को प्राथमिकता दी है. इस दौरान राजनाथ सिंह ने कुल 25 मिनट तक सम्बोधन दिया. उन्होंने कहा कि हरियाणा के हर गांव से सैनिक या अधिकारी हैं. देश ही नहीं हरियाणा के लोगों ने विश्व का नाम रोशन किया है.

1339 विद्यार्थियों को प्रदान की जाएंगी डिग्रियां
बता दें कि राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान कुरुक्षेत्र के 17वें दीक्षांत समारोह में कुल 1339 विद्यार्थियों को डिग्री प्रदान की जाएंगी. दीक्षांत समारोह में विभिन्न विभागों के 30 टॉपर्स को गोल्ड मेडल दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें - नूंह: कुएं में तैरती मिली दो एटीएम मशीन, जांच में जुटी पुलिस

चलती कार में चलाते थे कॉल सेंटर, तीन युवतियों समेत पांच गिरफ्तार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कुरुक्षेत्र से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 20, 2020, 1:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर