सूर्यग्रहण: 5000 साल बाद अनोखा योग, कुरुक्षेत्र होगा केंद्र, दिन में होगी रात!
Kurukshetra News in Hindi

सूर्यग्रहण: 5000 साल बाद अनोखा योग, कुरुक्षेत्र होगा केंद्र, दिन में होगी रात!
यह सूर्य ग्रहण भारत के देहरादून, सिरसा और टिहरी समेत कई हिस्सों में पूर्ण दिखाई देगा.

सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) पर कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण के चलते स्नान और मेले पर प्रतिबंध किया गया है. इन सबके बीच परंपराओं को निभाने के लिए पूजा व अनुष्ठान ब्रह्म सरोवर पर होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 20, 2020, 10:40 PM IST
  • Share this:
कुरुक्षेत्र. इस बार रविवार को होने वाला सूर्य ग्रहण बेहद खास है. सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) का केंद्र धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में होगा. ऐसा संयोग में करीब पांच हजार वर्ष बाद बन रहा है. सूर्य ग्रहण के दौरान दिन के वक्त 14 सेकंड के लिए अंधेरा हो जाएगा. बता दें कि सूर्य ग्रहण पर कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण के चलते स्नान और मेले पर प्रतिबंध किया गया है. इन सबके बीच परंपराओं को निभाने के लिए पूजा व अनुष्ठान ब्रह्म सरोवर पर होगा. कुरुक्षेत्र ही नहीं काशी व हरिद्वार के विद्वानों ने इसे विलक्षण सूर्य ग्रहण बताया है. उस समय भगवान श्रीकृष्ण ने द्वारका से आकर ब्रह्म सरोवर में स्नान किया था.

बता दें कि प्रशासन ने सुरक्षा और शांति व्यवस्था बनाए को लेकर शुक्रवार से ही कर्फ्यू लगा दिया था. यह 21 जून सायं 4 बजे तक रहेगा. इस दौरान कहीं पर भी पांच से ज्यादा व्यक्तियों के इक्टठा होने की अनुमति नहीं दी जाएगी. 20 जून शनिवार को सुबह सात से दोपहर 12 बजे तक छूट रही. इसके बाद बाद कर्फ्यू प्रभावी हो गया. पुलिस ने बाजारों में गश्त की. इससे पहले सुबह के वक्त बाजारों में भीड़ रही. 11 बजे के बाद ग्राहक कम होने लगे और 12 बजते ही बाजार बंद कर दिए गए.

कुरुक्षेत्र में कर्फ्यू



कुरुक्षेत्र में इस बार मथुरा के रमणरेती स्थित कार्ष्णि आश्रम के संचालक स्वामी गुरुशरणानंद महाराज इस बार सूर्य ग्रहण पर पूजा और अनुष्ठान में शामिल होंगे. वह हर बार सूर्य ग्रहण के केंद्र पर पूजा अर्चना करते हैं. इनके अलावा पथमेड़ा गोशाला राजस्थान के संचालक दत्त शरणानंद महाराज, मल्लू पीठाधीश्वर के संचालक राजेंद्र दास और गीता मनीषी ज्ञानानंद महाराज अनुष्ठान में शामिल होंगे.
पूजा की तैयारियां पूरी

कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड के मानद सचिव मदन मोहन छाबड़ा ने बताया कि सूर्य ग्रहण पर पूजा व अनुष्ठान की सब तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. इसमें कोविड-19 के नियमों का पालन किया जाएगा. यहां तीन-चार वेदी बनाई गई हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading