• Home
  • »
  • News
  • »
  • haryana
  • »
  • Tokyo Olympics: जिस हॉकी स्टिक से रानी रामपाल ने खेला था पहला मैच, परिजनों ने की उसकी पूजा

Tokyo Olympics: जिस हॉकी स्टिक से रानी रामपाल ने खेला था पहला मैच, परिजनों ने की उसकी पूजा

टीम की कप्तान रानी रामपाल तांगा चलाने वाले की बेटी हैं.

टीम की कप्तान रानी रामपाल तांगा चलाने वाले की बेटी हैं.

Indian Women Hockey Team: भारतीय महिला हॉकी टीम ने इतिहास रचते हुए टोक्यो ओलिंपिक के सेमीफाइनल में जगह बना ली है. 41 साल में टीम ने पहली बार यह कारनामा किया है.

  • Share this:

    कुरुक्षेत्र. टोक्यो में आज भारतीय महिला हॉकी टीम (Indian Women Hockey Team) सेमीफाइनल मैच खेलेगी, जिसको लेकर देश वासियों के साथ साथ कुरुक्षेत्र के लोग भी काफी उत्साहित दिखाई दे रहे हैं. भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल (Rani Rampal) हरियाणा के कुरुक्षेत्र के शाहाबाद कस्बे की रहने वाली हैं. रानी रामपाल के परिवार के लोगों टीम इंडिया की जीत के लिए सुबह पूजा अर्चना की. उन्होंने उस पुरानी हॉकी स्टिक की भी पूजा की जिसके साथ रानी रामपाल ने हॉकी की शुरुआत की थी. रानी रामपाल के पिता रामपाल ने बताया कि कैसे गरीबी से यहां तक का रास्ता रानी रामपाल ने तय किया. वहीं उनकी माता राममूर्ति ने आज के मैच के लिए रानी रामपाल और बाकी टीम के सदस्यों को शुभकामनाएं दी.

    बता दें कि रानी रामपाल पिता तांगा चलाया करते थे. मां लोगों के घरों में काम करती थी. पिता की कमाई 80 रुपए रोज की थी. रानी से बड़े दो भाई हैं. एक भाई किराना के दुकान में काम करता है. वहीं, दूसरा भाई बढ़ई का काम करता है. रानी के घर के सामने ही लड़कियों की हॉकी की एकेडमी थी. रानी जब एकेडमी में दाखिले के लिए गईं तो कोच बलदेव सिंह ने साफ मना कर दिया, क्योंकि रानी काफी दुबली पतली थीं.

    रानी की जिद को कोच का मिला साथ
    कोच को लगता था कि रानी की आर्थिक स्थिति ज्यादा अच्छी नहीं है, ऐसे में उनके लिए डाइट का इंतजाम करना मुश्किल होगा. लेकिन, रानी की बार-बार जिद की वजह से उन्हें ट्रेनिंग पर आने के लिए कहा. साथ ही उन्होंने कहा कि एकेडमी में पीने के लिए आधा लीटर दूध लाने के लिए कहा. उनका परिवार 200 मिली दूध का ही इंतजाम कर पाता था.

    रानी उसमें पानी मिलाकर ले जाती थीं ताकि ट्रेनिंग छूट न जाए. शुरुआत में वे सलवार में ही ट्रेनिंग करती थीं. बाद में उनकी प्रतिभा को देखते हुए कोच बलदेव सिंह ने उन्हें किट दिलवाई. सही कोचिंग पाने के लिए संघर्ष करने के अलावा रानी रामपाल को अपने माता-पिता को भी मनाना पड़ा कि वे उसे स्कर्ट पहनने और खेलने की अनुमति दे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज