महेन्द्रगढ़ में तीन साल के बालक को स्वाइन फ्लू, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट

नमन के परिवार वालों का कहना था कि हमें सरकार की तरफ से कोई भी किसी प्रकार की कोई मदद नहीं मिली है. यहां तक कि जब हमने मरीज को भिवानी से बाहर ले जाने को कहा तब उन्हें सरकार की तरफ से एम्बुलेंस तक की सुविधा नहीं मिली.

Sushil Sharma | News18 Haryana
Updated: January 14, 2019, 9:57 PM IST
महेन्द्रगढ़ में तीन साल के बालक को स्वाइन फ्लू, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट
स्वाइन फ्लू के मरीज के घर पहुंची जांच को स्वाथ्य विभाग की टीम
Sushil Sharma | News18 Haryana
Updated: January 14, 2019, 9:57 PM IST
महेन्द्रगढ़ के वार्ड नं 7 स्थित मोहल्ला भूरीवाल में पवन कौशिक के लगभग तीन वर्षीय पुत्र नमन को स्वाइन फ्लू की डॉक्टरों ने पुष्टि की है. नमन के दादा हरिशचंद ने बताया कि उनके पोते को बुखार हुआ था. उसको इलाज के लिए महेन्द्रगढ़ सरकारी हस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उपचार के बाद उसे नारनौल भेजा. वहां भी उसका इलाज नहीं हुआ. फिर उसे भिवानी हॉस्पिटल में ले जाया गया, जहां उसके टेस्ट करवाए गए. टेस्ट की रिपोर्ट आने पर पता चला कि उसे स्वाइन फ्लू हुआ है. इसलिए अभी हमने उसे इलाज के लिए गुड़गांव के मैक्स हॉस्पिटल में दाखिल करवाया हुआ है, जहां उसका इलाज चल रहा है.

नमन के परिवार वालों का कहना था कि हमें सरकार की तरफ से कोई भी किसी प्रकार की कोई मदद नहीं मिली है. यहां तक कि जब हमने मरीज को भिवानी से बाहर ले जाने को कहा तब उन्हें सरकार की तरफ से एम्बुलेंस तक की सुविधा नहीं मिली. स्वाइन फ्लू की रिपोर्ट आने के बाद स्वाइन फ्लू के कारणों को जानने के लिए स्वास्थ विभाग की टीम मरीज के घर पहुंची.

स्वास्थ विभाग की टीम ने घर में निरीक्षण किया और जानने की कोशिश की कि उसको किस तरह से, किस कारण से स्वाइन फ्लू हुआ है. टीम में शामिल डॉक्टर मोना ने बताया कि यह महेन्द्रगढ का पहला स्वाइन फ्लू पॉजिटिव केस है, जिसकी 13 तारीख को भिवानी से रिपोर्ट आई है. हमने परिवार के सभी सदस्यों से पूछताछ कर ली है, उनको कोई परेशानी नहीं है.

यह भी पढ़ें - पशु प्रेमियों के लिए खुशखबरी, गुरुग्राम में बनेगा हरियाणा का पहला पेट्स क्लीनिक

यह भी पढ़ें- 23 साल की उम्र में गंवा दी थी एक टांग, अब माउंट विंसन पर तिरंगा लहराकर लौटीं पद्मश्री अरुणिमा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर