बसई खानजादा विवाद : उत्पीड़न की शिकायत को दलित युवक के पिता ने भी बताया गलत
Mewat News in Hindi

मेवात जिले के बसई खानजादा गांव में दो पक्षों का विवाद ने राजनीतिक रंग ले लिया है. ब्राह्मण परिवार के खिलाफ दलित उत्पीड़न की शिकायत दर्ज कराने वाले शराबी युवक के पिता भी उसकी इस हरकत गलत करार दे रहे हैं.

  • Share this:
बसई खानजादा गांव में दो पक्षों का विवाद धीरे-धीरे राजनीतिक रंग लेता जा रहा है. दलित युवक रूप चंद ने चारपाई पर बैठने पर पिटाई करने और पानी नहीं भरने देने और जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल का आरोप लगाते हुए विभिन्न धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करा चुका है. अब आरोपी पक्ष ने भी जबान खोलते हुए इस झगड़े को पंचायत चुनाव से जोड़ दिया. हद तो तब हो गई जब पीड़ित दलित युवक का पिता भी आरोपी पक्ष के साथ खड़ा दिखाई दिया. मामला रोचक मोड़ लेता जा रहा है. नगीना पुलिस के लिए भी इस विवाद को सुलझाना एक चुनौती बन सकता है.

दलित युवक रूप चंद जिसने पुलिस के पास दलित उत्पीड़न की शिकायत दर्ज कराई


आरोपी पक्ष ने सरपंच को वोट न देने का असर
आरोपी पक्ष के मुताबिक पंचायत चुनावों में सरपंच को वोट न देने का खामियाजा बसई खानजादा के एक ब्राह्मण परिवार को भुगतना पड़ रहा है. सरपंच के इशारे पाए गांव के अनुसूचित जाति के युवक ने ब्राह्मण परिवार पर जाति सूचक शब्दों के इस्तेमाल के साथ मारपिट करने का आरोप लगाया है. मुकदमा दर्ज कराने वाले युवक के परिजन भी युवक की गलती को स्वीकार कर रहे हैं. मामले की जांच फिरोजपुर झिरका के डीएसपी को सौंपी गई है.
अमरचंद आर्य आरोपी पक्ष




ब्राह्मण परिवार के साथ हो रही नाइंसाफी को लेकर चिंता
गांव के अधिकतर लोग ब्राह्मण परिवार के साथ हो रही नाइंसाफी को लेकर चिंतित हैं. कुछ दिनों पहले पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराने वाला युवक शराब के नशे में ब्राह्मण परिवार के घर गया और वहां पर मौजूद महिलाओं के साथ गाली-गलौच करने के साथ-साथ बदतमीजी करने लगा. परिवार के लोगों से सहन नहीं हुआ तो उन्होंने इस युवक को हाथ पकड़कर बाहर निकाल दिया. गांव के मौजूदा सरपंच गुट ने घटना के बाद इस पर राजनीति शुरू कर दी. पुलिस में शिकायत दी साथ ही ब्राह्मण परिवार के दर्जनों लोगों पर एससी एक्ट लगवा दिया. जबकि शिकायतकर्ता रूप चंद के परिजन स्वयं युवक की गलती मान रहे हैं. शराब के आदी इस युवक की करतूत पहले भी ग्रामीण सहते रहे हैं.

रामस्वरूप दलित व कथित पीड़ित युवक का पिता 


इतना ही नहीं एससी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कराने वाले इस युवक ने पहले भी अपने पिता से मारपीट कर उसे चोट पहुंचाई है. गांव के पूर्व सरपंच के अलावा अन्य ग्रामीण युवक की इस हरकत को चुनावी रंजिश का नतीजा मान रहे हैं. मामला दर्ज हुए करीब 15 दिन बीत चुके हैं, लेकिन पुलिस ने इस विवाद में कोई कार्रवाई नहीं की है.

ये भी पढ़ें- 200 करोड़ की हेरोइन के साथ दो अफगानी नागरिक गिरफ्तार

टीचर की छेड़खानी का विरोध करने पर छात्रा को स्कूल से निकाला
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज