होम /न्यूज /हरियाणा /

DSP सुरेंद्र सिंह ने वीरता से निभाई ड्यूटी, परिवार को दी जाएगी 1 करोड़ की मदद, एक सरकारी नौकरी- सीएम खट्टर

DSP सुरेंद्र सिंह ने वीरता से निभाई ड्यूटी, परिवार को दी जाएगी 1 करोड़ की मदद, एक सरकारी नौकरी- सीएम खट्टर

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि डीएसपी सुरेंद्र कुमार ने वीरता से अपनी जिम्मेदारी निभाई. (फाइल फोटो- एएनआई)

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि डीएसपी सुरेंद्र कुमार ने वीरता से अपनी जिम्मेदारी निभाई. (फाइल फोटो- एएनआई)

सीएम खट्टर ने डीएसपी के परिवार को एक करोड़ रुपये की सहायता देने और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की भी ऐलान किया. सीएम खट्टर ने कहा, 'डीएसपी सुरेंद्र कुमार ने वीरता से अपनी जिम्मेदारी निभाई. वीर डीएसपी के परिवार को 1 करोड़ की सहायता और एक सरकारी नौकरी दी जाएगी.'

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

नूंह जिले में पुलिस उपाधीक्षक (DSP) सुरेंद्र सिंह को खनन माफिया ने डंपर से कुचलकर मार डाला.
सीएम खट्टर ने कहा कि डीएसपी सुरेंद्र सिंह की हत्या के दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी.
विपक्षी कांग्रेस ने इस मामले में बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए कानून-व्यवस्था पर सवाल उठाया.

चंडीगढ़. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने नूंह जिले में पुलिस उपाधीक्षक (DSP) सुरेंद्र सिंह को खनन माफिया द्वारा डंपर से कुचलकर मारने के मामले में सख्त कार्रवाई का भरोसा दिया है. उन्होंने कहा कि इसमें शामिल किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी.

सीएम खट्टर ने डीएसपी के परिवार को एक करोड़ रुपये की सहायता देने और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की भी ऐलान किया. सीएम खट्टर ने कहा, ‘डीएसपी सुरेंद्र कुमार ने वीरता से अपनी जिम्मेदारी निभाई. वीर डीएसपी के परिवार को 1 करोड़ की सहायता और एक सरकारी नौकरी दी जाएगी.’

इससे साथ ही उन्होंने प्रदेश में खनन माफिया पर लगाम लगाने का भी भरोसा दिया. उन्होंने कहा कि माइनिंग इलाके के पास और अंतर्राज्यीय बॉर्डर पर चौकियां बनाई जाएंगी. इसके साथ ही माइनिंग के लिए जाने वाले सामान और वाहनों की डेस्टिनेशन निश्चित होगी.

वहीं राज्य के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि उन्होंने पुलिस को सख्त कार्रवाई करने और इस घृणित कृत्य के लिए जिम्मेदार सभी दोषियों को गिरफ्तार करने का निर्देश दिया है. उधर हरियाणा पुलिस ने कहा कि डीएसपी ने ड्यूटी के दौरान अपनी जान कुर्बान कर दी और दोषियों को सजा दिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी.

कांग्रेस ने साधा खट्टर सरकार पर निशाना
हालांकि, मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने घटना को लेकर खट्टर सरकार पर निशाना साधा है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने घटना की न्यायिक जांच की मांग की है. उन्होंने आरोप लगाया कि खनन माफिया को राज्य सरकार से संरक्षण मिल रहा है. सुरजेवाला ने कहा, ‘क्या मुख्यमंत्री को नहीं पता कि यमुनानगर से नूंह और मेवात तक खनन माफिया फल-फूल रहे हैं. सरकार मूकदर्शक की तरह काम क्यों कर रही है.’

वहीं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा, ‘हम बार-बार कह रहे हैं कि राज्य में आम लोग असुरक्षित महसूस कर रहे हैं और हाल ही में कई विधायकों को धमकियां भी मिली हैं. ऐसा लगता है कि सरकार अस्तित्वहीन है और कानून का शासन नहीं है.’

ट्रक को रुकने का इशारा किया तो ड्राइवर ने कुचल दिया
बता दें कि हरियाणा के नूंह जिले में अवैध पत्थर खनन की जांच कर रहे एक पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) को मंगलवार को उस समय एक ट्रक ने कुचल दिया जब उन्होंने चालक को रुकने का इशारा किया. तावडू के डीएसपी सुरेंद्र सिंह ने दस्तावेज की जांच के लिए एक डंपर-ट्रक को रुकने का इशारा किया था, लेकिन चालक ने रफ्तार बढ़ाते हुए उन्हें कुचल डाला.

अधिकारियों के मुताबिक डीएसपी के चालक और सुरक्षाकर्मी ने सड़क के किनारे कूदकर अपनी जान बचाई, लेकिन सुरेंद्र सिंह ट्रक की चपेट में आ गए. पुलिस ने बताया कि सिंह को फौरन पास के एक अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया गया.

पुलिस के अनुसार, सिंह अपनी टीम के साथ तावडू के निकट पचगांव में अरावली पहाड़ियों में अवैध पत्थर खनन पर रोक के वास्ते छापे मारने गये थे और करीब 11 बजकर 50 मिनट पर उन्होंने ट्रक को देखकर रुकने का इशारा किया था. एक अधिकारी ने बताया कि पुलिस टीम ट्रक चालक की गिरफ्तारी के लिए विभिन्न स्थानों पर छापे मार रही है.

नूंह में हर साल आती है अवैध खनन की 50 शिकायतें
अधिकारियों ने बताया कि वर्ष 2015 से, प्रतिवर्ष नूंह में अवैध खनन की करीब 50 शिकायतें दर्ज की जाती हैं. उन्होंने बताया कि खनन माफिया के सदस्यों और पुलिस के बीच अक्सर फसाद होता रहा है.

हरियाणा पुलिस में डीएसपी सिंह की भर्ती 1994 में सहायक उपनिरीक्षक के पद पर हुई थी और वह कुछ महीनों में ही सेवानिवृत्त होने वाले थे. मूल रूप से हिसार जिले के सारंगपुर गांव के निवासी सिंह कुरुक्षेत्र में अपने परिवार के साथ रह रहे थे. (भाषा इनपुट के साथ)

Tags: CM Manohar Lal Khattar, Haryana police, Illegal Mining, Mewat news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर