Home /News /haryana /

haryana police nuh mewat constable irfan received iim indore fellowship here his success story nodvm

नौकरी करते-करते कांस्टेबल इरफान ने हासिल की IIM की फेलोशिप, जानें उनकी सफलता की कहानी

 नौकरी पर रहते हुए 28 वर्षीय इरफान को देश के प्रतिष्ठित संस्थान IIM इंदौर और जम्मू की फेलोशिप हासिल की.

नौकरी पर रहते हुए 28 वर्षीय इरफान को देश के प्रतिष्ठित संस्थान IIM इंदौर और जम्मू की फेलोशिप हासिल की.

Success Story: साल 2019 में इरफान हरियाणा पुलिस में कांस्टेबल पद पर तैनात हुए थे. इसके बाद कांस्टेबल पद पर तैनात रहते हुए उन्होंने अपनी पढ़ाई जारी रखी. इरफान अब हरियाणा पुलिस की नौकरी छोड़ कर आईआईएम इंदौर में अपनी सेवाएं दे रहे हैं. वहीं बड़े भाई के नक्शे कदम पर चलते हुए छोटे भाई एहसान ने भी 25 साल की उम्र में इसी साल हरियाणा पुलिस में अपनी जगह बनाई है. इरफान की हरियाणा ही नहीं बल्कि देशभर में तारीफ हो रही है. हरियाणा के बेटे इरफान की इस उपलब्धि से नीमका गांव में जश्न का माहौल है. वहीं माता-पिता व भाई-बहनों की खुशी का कोई ठिकाना नहीं है.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

साल 2019 में इरफान हरियाणा पुलिस में कांस्टेबल पद पर तैनात हुए थे.
इरफान की इस उपलब्धि से नीमका गांव में जश्न का माहौल है.
सिटी ग्रुप में यूएस आधारित एमएनसी में फंड अकाउंटिंग ऑफिसर के रूप में शामिल हुए.

नूंह मेवात. अगर व्यक्ति के अंदर जुनून हो तो वो कोई भी मुकाम हासिल कर सकता है. हरियाणा के नूंह मेवात जिले के नीमका गांव के कांस्टेबल इरफान ने एक ऐसी ही सफलता हासिल की, जिसे सुनकर हर कोई गौरवान्वित है. नौकरी पर रहते हुए 28 वर्षीय इरफान को देश के प्रतिष्ठित संस्थान आईआईएम इंदौर और जम्मू की फेलोशिप हासिल की. उन्होंने कांस्टेबल पद पर रहते हुए यह कामयाबी हासिल की है. आईपीएस अधिकारी पंकज नैन और खेल विभाग हरियाणा ने भी इरफान की जमकर तारीफ की है.

साल 2019 में इरफान हरियाणा पुलिस में कांस्टेबल पद पर तैनात हुए थे. इसके बाद कांस्टेबल पद पर तैनात रहते हुए उन्होंने अपनी पढ़ाई जारी रखी. इरफान अब हरियाणा पुलिस की नौकरी छोड़ कर आईआईएम इंदौर में अपनी सेवाएं दे रहे हैं. वहीं बड़े भाई के नक्शे कदम पर चलते हुए छोटे भाई एहसान ने भी 25 वर्ष की उम्र में इसी साल हरियाणा पुलिस में अपनी जगह बनाई है. इरफान की हरियाणा ही नहीं बल्कि देशभर में तारीफ हो रही है.

 114 पिछड़े जिलों में हरियाणा का नूंह एकमात्र जिला है
अगर कुछ कर गुजरने का जुनून व जज्बा हो तो कोई भी बाधा पार की जा सकती है. नौकरी में रहते हुए भी बड़े से बड़ा मुकाम हासिल किया जा सकता है. हरियाणा के बेटे इरफान की इस उपलब्धि से नीमका गांव में जश्न का माहौल है. वहीं माता-पिता व भाई-बहनों की खुशी का कोई ठिकाना नहीं है. बता दें कि नीति आयोग के देशभर के 114 पिछड़े जिलों में हरियाणा का नूंह एकमात्र जिला है.

पढ़ाई में शुरू से रहे होशियार
कला पब्लिक सीनियर सेकेंडरी स्कूल होडल से 82 प्रतिशत अंकों के साथ 10वीं पास की. उसके बाद जीवन ज्योति पब्लिक सीनियर सेकेंडरी स्कूल पलवल से 94 प्रतिशत अंकों के साथ 12वीं पीसीएम-साइंस उतीर्ण की. श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स (दिल्ली विश्वविद्यालय) से बीकॉम (एच) में 70 फीसदी अंकों के साथ स्नातक किया. साल 2017 में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय से एमबीए (पूर्णकालिक) 78.8% के साथ क्लियर किया. नौकरी के साथ 2022 में जामिया मिलिया इस्लामिया से एम.कॉम (डिस्टेंस मोड) में किया.

करोड़ों पुलिस के जवानों के लिए बने प्रेरणा
सिटी ग्रुप में यूएस आधारित एमएनसी में फंड अकाउंटिंग ऑफिसर के रूप में शामिल हुए. उसके बाद 2019 में हरियाणा पुलिस विभाग में शामिल हुए और बैंक धोखाधड़ी मामलों की जांच के लिए आर्थिक प्रकोष्ठ, एसपी कार्यालय जींद में काम किया. प्रबंधन और वाणिज्य दोनों विषयों में जेआरएफ (नेट) उत्तीर्ण किया है. ये एग्जाम जॉब के साथ साथ क्लियर किए. हाल ही में भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM), इंदौर और IIM जम्मू में प्रबंधन में फेलो प्रोग्राम के लिए चुना गया है. उन्होंने आईआईएम इंदौर को चुना जो भारत के शीर्ष बी-स्कूलों में से एक है और दुनिया में अपनी प्रतिष्ठा का संस्थान भी है. अब इरफान इंदौर में मेवात जिले का नाम रोशन कर, करोड़ों पुलिस के जवानों के लिए आगे बढ़ने की प्रेरणा का संदेश दे रहे हैं.

Tags: Haryana news, Haryana police

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर