मेवात के इस इंजीनियरिंग कॉलेज में ली जाती है सबसे कम फीस, 13 राज्यों से पढ़ने आते हैं स्टूडेंट

मेवात इंजीनियरिंग कॉलेज वक्फ पल्ला एक नजीर पेश करने जा रहा है. सूबे में ही नहीं बल्कि पूरे देश में सबसे कम फीस लेने वाला कॉलेज है.

Kasim Khan | News18 Haryana
Updated: July 11, 2019, 10:33 AM IST
मेवात के इस इंजीनियरिंग कॉलेज में ली जाती है सबसे कम फीस, 13 राज्यों से पढ़ने आते हैं स्टूडेंट
मेवात के इस इंजीनियरिंग कॉलेज में ली जाती है सबसे कम फीस, 13 राज्यों से पढ़ने आते हैं स्टूडेंट
Kasim Khan | News18 Haryana
Updated: July 11, 2019, 10:33 AM IST
हरियाणा के नूंह मेवात जिले में देश का सबसे कम फीस लेने वाला एकमात्र इंजीनियरिंग कॉलेज है. देशभर के वक्फ बोर्ड के लिए मेवात इंजीनियरिंग कॉलेज वक्फ पल्ला एक नजीर पेश करने जा रहा है. सूबे में ही नहीं बल्कि पूरे देश में सबसे कम फीस लेने वाले इस इंजीनियरिंग कॉलेज से युवा इंजीनियर बन तरक्की कर रहे हैं.

12-13 राज्यों के बच्चे यहां ले रहे शिक्षा

इंजीनियरिंग कॉलेज-College of Engineering
12-13 राज्यों के बच्चे यहां शिक्षा ले रहे हैं


देश के 12-13 राज्यों से बच्चे यहां शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं. सूबे में शैक्षणिक एतबार से पिछड़े नूंह जिले में अरावली की वादियों से लगते पल्ला गांव की जमीन में यह कॉलेज वर्ष 2010 से संचालित है. यहां महज मामूली सी फीस ली जाती है. अगर बच्चों के अंक अच्छे हों तो छात्रवृत्ति (स्कॉलरशिप) भी मिलती है. दाखिला की प्रक्रिया इन दिनों चल रही है, जो आगामी 14 अगस्त तक जारी रहेगी.

कॉलेज में दाखिले के लिए ऑनलाइन आवेदन की व्यवस्था

ऑनलाइन आवेदन-System of online application
कॉलेज में दाखिले के लिए ऑनलाइन आवेदन की व्यवस्था


मामले में मेवात इंजीनियरिंग कॉलेज वक्फ पल्ला के प्रोफेसर वसीम अकरम ने बताया कि यहां दाखिला लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन और फीस जमा कराई जा सकती है. उन्होंने कहा कि ये हरियाणा के आईपीएस अधिकारी डॉक्टर हनीफ कुरैशी और वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी अकील अहमद समेत कई लोगों के सहयोग से यह संस्थान खड़ा हुआ.
Loading...

80 फीसदी अंक लाने वाले छात्रों की आधी फीस माफ 

प्रोफेसर वसीम अकरम ने बताया कि 70 फीसदी अंक हांसिल करने वाले छात्राओं की ट्यूशन फीस माफ तो 80 फीसदी अंक वाले छात्रों की आधी फीस माफ की जाती है. कॉलेज की सालाना फीस 39 हजार तो लड़कियों की फीस 19 हजार रुपए है. गरीब अभिभावक भी इस संस्थान से अपने बच्चों को इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर सकते हैं. इस बार करीब 210 सीटों में 100 से अधिक सीटों पर दाखिला हो चुका है.

ये भी पढ़ें:- तीन अलग-अलग सड़क हादसों में एक की मौत, 8 की हालत गंभीर

ये भी पढ़ें:- पंजाबः धमाके के बाद फैक्ट्री में लगी भीषण आग, 1 की मौत
First published: July 11, 2019, 10:33 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...