दहेज में नहीं मिली स्विफ्ट कार तो ले ली बहू की जान!

मृतका के परिवार वालों ने ससुराल वालों को एक लाख की नकदी और एक भैंस भी दी थी, लेकिन लड़के पक्ष के लोग लगातार स्विफ्ट कार की मांग कर रहे थे.

News18 Haryana
Updated: September 11, 2018, 1:33 PM IST
दहेज में नहीं मिली स्विफ्ट कार तो ले ली बहू की जान!
मृतका की फाइल फोटो
News18 Haryana
Updated: September 11, 2018, 1:33 PM IST
नूंह के नवाबगढ़ गांव में दहेज़ लोभी ससुराल पक्ष के लोगों पर बहू की जान लेने का आरोप लग रहा है. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर नूंह सीएचसी से पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों को सौंप दिया है. पीड़ित परिजनों ने 9 लोगों के खिलाफ रोजका मेव पुलिस को शिकायत दे दी है. पुलिस ने शिकायत मिलते ही कार्रवाई शुरू कर दी है.

पुलिस को दी गई शिकायत में मृतक लड़की की माता खेरूनिशा ने कहा कि उसने पति के देहांत होने के उपरांत अपनी दो बेटी अरसीदा और मैमुना की शादी मुस्लिम रीतिरिवाज अनुसार करीब चार साल पहले नवाबगढ़ गांव के साबिर और सहनूद उर्फ़ सप्पू पुत्रान अहमद के साथ की थी. शादी में दिए दहेज़ से नवाबगढ़ गांव के लड़के पक्ष के लोग खुश नहीं थे.

वकील पति ने दहेज के लिए पत्नी को दूसरी मंजिल से नीचे फेंका

मृतका के परिवार वालों ने ससुराल वालों को एक लाख की नकदी और एक भैंस भी दी थी, लेकिन लड़के पक्ष के लोग लगातार स्विफ्ट कार की मांग कर रहे थे. जब गाड़ी नहीं दी तो दहेज़ लोभी ससुराल वालों ने बहू की खेतों में ले जाकर नीम के पेड़ में लटकाकर जान ले ली. मायके वालों से लड़की के गायब होने की बात कही गई, लेकिन कुछ देर बाद ही मौत की खबर सुनी तो उनके पैरों तले की जमीन निकल गई.

महिला का आरोप, दहेज के लिए ससुरालवालों ने जिंदा जलाना चाहा

हद तो तब हो गई जब मायके वालों पर भी लड़के पक्ष के लोगों ने हमला कर दिया. जैसे-तैसे पुलिस की मदद से शव को नूंह सीएचसी ले जाया गया. शिकायत देरी से मिलने के कारण शव का पोस्टमार्टम और एफआईआर दर्ज करने में रोजका मेव पुलिस कुछ भी कहने को तैयार नहीं दिखी. पुलिस ने शिकायत मिलने की बात जरूर कही, जिसमें 9 लोगों के खिलाफ हत्या करने के आरोप लगाए हैं, जिनमें कई महिलाएं भी शामिल हैं. एएसआई अब्दुल खान ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट और पुलिस जांच के बाद ही मौत के कारणों का खुलासा हो पायेगा.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर