लाइव टीवी

5 साल से पीएचसी में न बिजली, न पानी, स्टाफ का भी अभाव

Kasim Khan | News18 Haryana
Updated: April 30, 2018, 5:11 PM IST
5 साल से पीएचसी में न बिजली, न पानी, स्टाफ का भी अभाव
पीएचसी शिकरावा

पीएचसी में डॉक्टरों के कमरों में ताला लगा हुआ है और लाखों के उपकरण धूल फांक रहे हैं. सफाई की भी उचित व्यवस्था नहीं है.

  • Share this:
नूंह जिले के पुन्हाना खंड के सबसे शिक्षित गांवों में शुमार शिकरावा में करीब पांच साल पहले तक़रीबन दो करोड़ रुपये की लागत से ढाई एकड़ में बनी पीएचसी शिकरावा गांव को ही नहीं बल्कि दर्जनों गांव जो पीएचसी के अंतर्गत आते हैं को भी उदघाटन से अपार ख़ुशी हुई थी. लेकिन ग्रामीणों को नहीं पता था की स्वास्थ्य विभाग इस अस्पताल में बिजली-पानी से लेकर डॉक्टर, नर्स और अन्य स्टाफ से लेकर एम्बुलेंस की बात हो या फिर दवाइयों की बात हो उसकी पूर्ति तक नहीं कर पायेगा.

पीएचसी में डॉक्टरों के कमरों में ताला लगा हुआ है और लाखों के उपकरण धूल फांक रहे हैं. सफाई की भी उचित व्यवस्था नहीं है. अंधेरे के कारण शाम से ही पीएचसी में ताला लटक जाता है. इतना ही नहीं जच्चा-बच्चा लाने और ले जाने के लिए एम्बुलेंस तक अस्पताल में नहीं है.

ग्रामीण लोगों  का कहना कि लेडी डॉक्टर के ना होने की वजह से डिलीवरी करते समय जच्चा-बच्चा की जान जाने का खतरा बना रहता है जिसकी वजह से माड़ीखेड़ा रेफर करना पड़ता है. इतना ही नहीं पीने के पानी लिए स्टाफ तथा मरीज भटक रहे हैं.

उदघाटन के बाद से स्वास्थ्य विभाग ने अस्पताल की सुध ही नहीं ली. डॉक्टर के पद रिक्त हैं, तो फार्मासिस्ट नहीं है. लोगों की उम्मीदों पर शिकरावा का अस्पताल खरा नहीं उतर पा रहा है. सरकार तथा स्वास्थ्य विभाग से लोग खासे नाराज हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेवात से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 30, 2018, 5:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...