लाइव टीवी

84 कोस परिक्रमा के श्रद्धालुओं के लिए मेवात जिले में कोई सुविधा नहीं

Kasim Khan | News18 Haryana
Updated: May 20, 2018, 6:14 PM IST
84 कोस परिक्रमा के श्रद्धालुओं के लिए मेवात जिले में कोई सुविधा नहीं
परिक्रमा में शामिल श्रद्धालुओं की ग्रामीण अपने स्‍तर पर सेवा कर रहे हैं.

84 कोस की परिक्रमा लगा रहे श्रद्धालुओं को मेवात में प्रशासन से किसी प्रकार की कोई सुविधा नहीं दी जा रही है. ग्रामीण अपने स्तर पर श्रद्धालु यात्रियों की सेवा में लगे हुए हैं.

  • Share this:
ब्रज का क्षेत्र कहलाने वाले मेवात जिले के बिछोर गांव से 84 कोस की परिक्रमा शुरू हो चुकी है. करीब एक महीने तक चलने वाली इस परिक्रमा में प्रतिदिन हजारों श्रद्धालु शामिल हो रहे हैं, लेकिन मेवात जिले में आने वाले करीब तीन कोस के रास्ते में श्रद्धालुओं के लिए किसी प्रकार की कोई सुविधा नहीं की गई है.

श्रद्धालुओं को यहां होने वाली परेशानी से प्रशासन व सरकार को कई बार अवगत कराया जा चुका है, लेकिन समस्याओं का कोई समाधान नहीं हो पाया. पीने के पानी से लेकर रास्तों की साफ-सफाई, विश्राम स्थल, चिकित्सा, शौचालय जैसी कोई सुविधा नजर नहीं आ रही. श्रद्धालु परेशान हैं तो परिक्रमा में लगे श्रद्धालुओं की सेवा करने वाले समाजसेवी व स्वयंसेवक इसका दोष सरकार व प्रशासन पर मढ़ रहे हैं.

आपको बता दें कि ब्रज की 84 कोस की परिक्रमा चार साल में लगाई जाती है, जो उत्तरप्रदेश के गोवर्धन से शुरू होती है. हिंदू कैलेंडर के अनुसार अभी मलमास चल रहा है, जो हर चार साल में आता है. इस दौरान आसपास के राज्यों के अलावा पूरे देश से परिक्रमा को लगाने के लिए श्रद्धालु बड़ी आस्था के साथ आते हैं.

करीब 350 किलोमीटर की यह परिक्रमा 10 दिन में पूरी की जाती है. श्रद्धालु यात्री बड़े उत्साह से परिक्रमा के लिए आते हैं, लेकिन श्रद्धालुओं का उत्साह यहां की समस्याओ के कारण जवाब दे जाता है. तेज गर्मी में पारा 40 डिग्री सेल्सियस के पार जा रहा है. ऐसे में परिक्रमा लगा रहे श्रद्धालुओं को प्रशासन से किसी प्रकार की कोई सुविधा नहीं दी जा रही है. ग्रामीण अपने स्तर पर श्रद्धालु यात्रियों की सेवा में लगे हुए हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मेवात से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 20, 2018, 6:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...